भरतपुर मैं मंत्री जी के समाने महिलाओं ने उनके ही विभाग पर ही भष्ट्राचार के आरोप लगाए

भरतपुर।(राजेन्द्र जती )आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर प्रदेश की  मुखिया वसुंधरा राजे ने अपने मंत्रिमंडल के सभी मंत्री सांसद विधायकों को प्रदेश के प्रत्येक जिले में जाकर आमजन की समस्याओं को सुनना और उनके निराकरण के लिए तीन-तीन दिन के प्रवास पर सभी को भेजा था जिससे आमजन की समस्याओं का निदान हो सके
और केंद्र व राज्य की जो  कल्याणकारी योजनाएं हैं वह आम जन तक पहुंचे लेकिन भरतपुर में कुछ और ही नजर आ रहा है ।आज सर्किट हाउस में श्रम कौशल नियोजन एवं उद्यमिता विभाग के मंत्री जसवंत सिंह यादव भरतपुर पहुंचे जहां पर सर्किट हाउस में विधायक विजय बंसल,मेयर शिव सिंह सरपंच मोहन सिंह  महामंत्री भगवान दास शर्मा महिला मोर्चा की शिवानी दायमा   भाजपा के कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया।
इसी दौरान श्रम विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर कुछ मजदूर महिलाएं वहां पहुंच गई और मंत्री को ज्ञापन दिया श्रम विभाग में भ्रष्टाचार को
लेकर मंत्री से शिकायत की कुम्हेर कस्बे के सोनेरा गांव की रहने वाली दलवीरा ने  मंत्री को शिकायत की कि 2016 में उसकी सास की फाइल श्रम विभाग में लगी हुई है उसको रिजेक्ट कर दिया गया इसके बाद उसकी लड़की की स्कॉलरशिप की फाइल लगाई गई जिसमें जिला कलेक्टर द्वारा भी पत्र लिखा गया था उसके बावजूद भी उसकी फाइल को रिजेक्ट कर दिया गया।


दलवीरा  ने सर्किट हाउस में मंत्री अधिकारी सब को जमकर सुनाई और भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कहा कि श्रम विभाग में एक फाइल आगे बढ़ाने के लिए रिश्वत देनी पड़ती है अगर रिश्वत नहीं दी तो उसकी फाइल को रिजेक्ट कर दिया जाता है। वही संभागीय श्रमअायुक्त ओ पी सहारण के ट्रांसफर पर भाजपा नेताओं की दो राय विधायक पक्ष ट्रांसफर नहीं कराने के पक्ष में है जबकि दूसरा गुट संभागीय आयुक्त ओ पी सहारण के ट्रांसफर के पक्ष में हैं इन दोनों पक्षों को लेकर मंत्री असमंजस में देखे गए  इस मौके पर मंत्री डॉ जसवंत यादव ने कहा कि  प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का  सपना है कि  प्रदेश में जितने भी बेरोजगार हैं उनको रोजगार मुहैया कराई जाए और इसके लिए विभाग की तरफ से  रैलियां आयोजित की जा रही है जिससे युवाओं को  रोजगार मिल सके भ्रष्टाचार को लेकर  मंत्री ने कहा कि श्रम विभाग में  एक बार जो श्रमकार्ड बन जाता है उसके बाद उसकी वेरिफिकेशन कराने के लिए अधिकारी उनके घर
नहीं जाता है और  सिलिकोसिस के जो मरीज हैं उनके लिए भी अब सरकार ने राशि
पहले से बढ़ा दी है।