सरकारें गुर्जरों का कर रही अपमान,चुनावो मे लेंगे बदला – पायला

अलवर/ जिले के गोला का बास के कूटुकी गांव में पथिक सेना के कार्यकर्ताओं ने गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिरभोज के बोर्ड का अनावरण किया। जिसमें मुख्य अतिथि पथिक सेना प्रदेश महामंत्री हरीश पायला अध्यक्षता श्यालूता सरपंच श्रीमती सवीता गुर्जर विशिष्ट अतिथि जिला पार्षद श्री सुरेश शर्मा,मोहन भड़ाना समाजसेवी थानागाजी, कप्तान गुर्जर सामाजिक कार्यकर्ता रहे।

गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिर भोज का शासन काल 836 ईसवी से 885 ईसवी तक मध्यकालीन भारत में रहा। और कन्नौज के शाषक रहे ।

पथिक सेना प्रदेश महामंत्री हरीश पायला ने बताया कि गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिरभोज का लम्बे समय तक मध्यकालीन भारत में शासन रहा था और महापुरूषों का बोर्ड व प्रतिमाएं लगाकर हमारा इतिहास व स्वाभिमान जिंदा रखने का कार्य कर रहे हैं देश की सरकारों द्वारा गुर्जर समाज का अपमान किया जा रहा है गुजरात में वेबसाइट से गुर्जर समाज का इतिहास डिलीट कर दिया और ग्वालियर में गुर्जर सम्राट मिहिरभोज की मूर्ति का अनावरण वहां के प्रथम नागरिकों ने किया उसके बाद भी मूर्ति को तिरपाल से ढक दिया गया और पिछले दिनों दादरी में गुर्जर सम्राट मिहिरभोज की मूर्ति अनावरण कार्यक्रम पधारे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री उसमें रातों-रात गुर्जर शब्द को हटा दिया गया।

इसलिए गुर्जर समाज में आक्रोश है और आने वाले चुनावों में गुर्जर समाज वोट की चोट बदला लेगा।इस मौके पर महेश गुर्जर, श्रीनारायण गुर्जर,बीलाराम गुर्जर,रमेश,देव गुर्जर, मुकेश, धारासिंह, सूरज आदि लोग उपस्थित रहे।