अलवर

राजस्थान में यह क्या हो रहा है ,थाने में फरियाद लेकर गई विवाहिता से थाने में ही 3 दिन तक बलात्कार

अलवर । राजस्थान में पिछले कुछ समय से महिलाओं पर अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही है जिनमें महिलाओं से दुष्कर्म छेड़छाड़ हत्याएं लूटपाट सामूहिक गैंगरेप जैसी घटनाएं शामिल है लेकिन सबसे बड़ी शर्मनाक बात तो इस माह के पहले सप्ताह में घटित हुई जब अपने पति को ससुराल से पीड़ित एक 26 साल की विवाहिता न्याय मांगने के लिए थाने में गई जहां सब इंस्पेक्टर रैंक के एक अधिकारी ने काउंसलिंग के नाम पर थाने में बुलाकर थाने के क्वार्टर में ही 3 दिन तक उसके साथ बलात्कार किया इस घटना ने पूरे देश में राजस्थान को शर्मसार ही नहीं किया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार पर एक सवालिया निशान खड़ा कर दिया है । पुलिस थाना जहां सुरक्षित माना जाता है अगर वही ऐसा करते हो जाए तो फिर राजस्थान में महिलाएं और युवतियां कहां सुरक्षित रह सकती है ।

यह है मामला

 

घटना के अनुसार 2 मार्च को एक 26 वर्षीय विवाहिता खेड़ली थाने में आई और अपने पति की ज्यादतियों की शिकायत की। विवाहिता ने यह भी बताया कि पति जबरन तलाक लेना चाहता है। थानाधिकारी ने विवाहिता की शिकायत की जांच सब इंस्पेक्टर भरत सिंह जादौन को दी। पति से काउसिलिंग करवाने के बहाने जादौन ने 2,3 और 4 मार्च तक तीन बार युवती के साथ खेड़ली थाने के क्वार्टर में ही बलात्कार किया गया। यानि थानेदार थाने में ही बलात्कर करता रहा और थाने की पुलिस देखती रही। सब जानते हैं कि आम व्यक्ति तो थाने के बाहर खड़े संतरी को देख कर ही अंदर घुसने की हिम्मत नहीं करता है, जबकि भरत सिंह तो थाने के अंदर बलात्कार जैसा घिनौना कृत्य करता रहा।

 

एसपी तेजस्विनी गौतम ने बताया कि डीजीपी एम एल लाठर के आदेश पर लक्ष्मणगढ़ पुलिस उपाधीक्षक अशोक चौहान को एपीओ किया गया है। इसके साथ ही खेड़ली थानाधिकारी हनुमान सहाय और सब इंस्पेक्टर भरत लाल सहित 18 को निलंबित किया गया है। मामले की सूचना मिलते ही रविवार की शाम रेंज आईजी हवा सिंह घुमरिया, एसपी तेजस्विनी थाने पर पहुंचे थे। पुलिस ने पीड़ित महिला की रिपोर्ट पर तुरंत बलात्कार का मामला दर्ज किया। अधिकारियों ने शिकायत को प्राथमिक दृष्टि से सही पाया तो थानेदार को तत्काल गिरफ्तार करने के आदेश भी दिए थे। देर रात तक आईजी व एसपी थाने में ही मौजूद रहे थे।

सीओ राजगढ़ को दी मामले की तफ्तीश

 

एसपी तेजस्विनी गौतम ने बताया कि इस मामले की जांच सीओ राजगढ़ अंजलि जोरवाल को दी गई है। वह इस मामले की जांच कर रही है। घटना की जानकारी मिलने के बाद तुरंत एसआई को गिरफ्तार कर लिया था। महिला का भी मेडिकल कराया गया है। सोमवार को महिला के 164 के बयान हुए हैं। आरोपित को जेल भेजने की प्रक्रिया जारी है।

मुख्यमंत्री गहलोत सवालो के घेरे में

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को संवेदनशील सीएम माना जाता है। जब खेड़ली थाने में थानेदार ही इज्जत लूट रहा हो, तब उस युवती की मानसिक स्थिति कैसी होगी यह मुख्यमंत्री महसूस कर सकेंगे ? वो भी तब जब युवती अपने पति की ज्यादतियों से दु:खी हो?

सवाल उठता है कि थानेदार की बर्खास्तगी से क्या पुलिस के दामन पर लगा दाग साफ हो जाएगा? भरत सिंह ने राजस्थान पुलिस के दामन पर ऐसा दाग लगाया है जो लम्बे समय तक याद रहेगा

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम