अजमेर में नहीं लगे टीके, बुजुर्गो को बैरंग लौटना पड़ रहा है

कोरोना वैक्सीन
File Photo

अजमेर। राजस्थान में सरकारी और निजी अस्पतालों में कोरोना का पहला टीका लगाना बंद कर दिया है। केन्द्र सरकार से जब वैक्सीन प्राप्त होगी, तब टीकाकरण शुरू किया जाएगा। राजस्थान सरकार के पास अभी जो वैक्सीन शेष है उसे दूसरे डोज के लिए रखा गया है, क्योंकि व्यक्ति को दूसरा डोज लगना जरूरी है। मौजूदा स्टॉक को देखते हुए ही व्यक्तियों को टीके नहीं लगाए जा रहे हैं। अब वो ही व्यक्ति अस्पतालों में पहुंचे जिन्हें 28 दिन बाद दूसरा टीका लगना है।

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने केन्द्र सरकार पर मांग के अनुरूप कोरोना की वैक्सीन नहीं भिजवाने का आरोप लगाया है। डॉ रघु शर्मा ने मीडिया को बताया कि प्रदेशभर में वैक्सीन उपलब्ध करवाने के लिए उन्होंने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से भी बात की है। उन्होंने जल्द ही वैक्सीन उपलब्ध करवाने का भरोसा दिलाया है।

अजमेर में भी नहीं लगे टीके

कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने के कारण 9 मार्च को अजमेर जिले में भी पात्र लोगों पहला डोज नहीं लगाया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ केके सोनी ने बताया कि देर रात तक वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी। यदि वैक्सीन उपलब्ध होती है तो 10 मार्च को पहले की तरह टीके लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि पूर्व निर्धारित तिथियों के अनुरूप कोरोना का दूसरा टीका पात्र व्यक्तियों के लगाया जा रहा है। दूसरे टीके के लिए सभी सरकारी अस्पतालों में वैक्सीन उपलब्ध है। वहीं निजी अस्पतालों में डोज कम पड़ने बुजुर्गों को बैरंग लौटना पड़ रहा है। उनसे वैक्सीन उपलब्ध होने पर फोन कर सूचना देने के लिए कहा जा रहा है।