Ajay Maken, state in-charge of Rajasthan Congres
जयपुर राजस्थान

अजय माकन ने ईडी पर लगाया दबाव में काम करने का आरोप, सरकार के 8 साल के कार्यकाल में ही 5310 केस दर्ज

जयपुर। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से लगातार ईडी की पूछताछ को लेकर कांग्रेस के राजस्थान प्रभारी और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन ने बड़ा आरोप लगाया है। अजय माकन ने कहा कि केंद्र सरकार जांच एजेंसियों के जरिए विपक्ष की आवाज को दबाने का काम कर रही है। अजय माकन ने आज दिल्ली में एआईसीसी मुख्यालय में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रवर्तन निदेशालय ईडी में कुल 5422 केस चल रहे हैं, जिनमें से अकेले पर 5310 केस अकेले मोदी सरकार के 8 साल के कार्यकाल में दर्ज हुए, जिससे पता चलता है कि किस कदर विपक्ष के नेताओं को ईडी के जरिए डराया और धमकाया जा रहा है।

बीजेपी में जाने वाले नेताओं पर नहीं होती कार्रवाई

अजय माकन ने कहा कि जांच एजेंसियों के जरिए मोदी सरकार विपक्ष की आवाज दबाने का काम कर रही है। केंद्रीय एजेंसियों को निर्देश दिए जाते हैं कि या तो मोदी सरकार और भाजपा के खिलाफ बोलना बंद करें वरना उन पर कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि कई नेता ऐसे हैं जिन्हें पहले ईडी और सीबीआई के जरिए परेशान किया गया और बाद में जब वह भाजपा में शामिल हो गए तो उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने कहा कि हेमंत बिस्वा को शारदा घोटाले में ईडी ने बुलाया था, उनसे पूछताछ हुई लेकिन जब वो बीजेपी में शामिल हो गए तो उन पर कार्रवाई रोक दी गई। येदुरप्पा पर पर भी केस दर्ज हुआ था उन पर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

नारायण राणे जब तक कांग्रेस में रहे जब तक उन्हें रोज ईडी और इनकम टैक्स के नोटिस भेजे जाते थे, लेकिन जैसे ही भाजपा में चले गए तो वह पाक साफ हो गए। मुकुल रॉय और सोमेन मित्रा जब तक तृणमूल कांग्रेस में रहे उन्हें एक भी ईडी और सीबीआई के जरिए परेशान किया जाता रहा। यह सब चीजें इस बात को साबित करती है कि अन्य दलों के नेताओं को भाजपा में शामिल कराने के लिए भी जांच एजेंसियों का दुरुपयोग किया जाता है।

ईडी की पूछताछ बाहर आने पर उठाए सवाल

अजय माकन ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ के दौरान किए गए सवालों के बाहर आने पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि जानबूझकर ईडी की कार्रवाई के दौरान सवाल जवाबों को एक नैरेटिव के तहत बाहर ले किया जा रहा है, जिससे कांग्रेस नेताओं की छवि खराब की जा सके। उन्होंने कहा कि इसे लेकर कांग्रेस के विधि विभाग की ओर से भी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को एक लीगल नोटिस भी भेजा गया है। अजय माकन ने कहा कि जब पूछताछ के दौरान होने वाली बातें लीक होंगी तो इससे अच्छा है कि पूछताछ के दौरान एक कैमरा लगाकर उसका लाइव टेलीकास्ट कर दिया जाए।

अपने कार्यालय आने से रोका जा रहा है

अजय माकन ने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है जब कांग्रेस के कार्यकर्ताओं-नेताओं को अपने ही पार्टी मुख्यालय में आने से रोका जा रहा है। इससे पहले ऐसा कभी भी नहीं हुआ जब विपक्ष के नेताओं कार्यकर्ताओं को उनके कार्य जाने से रोका हो। उन्होंने कहा कि जिस तरह से हाल ही में दिल्ली पुलिस ने एआईसीसी मुख्यालय में घुसकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पत्रकारों पर लाठीचार्ज किया था। वो इतिहास में काले अक्षरों में लिखा जाएगा। अजय माकन ने कहा कि हम केंद्रीय जांच एजेंसियों से दबने वाले नहीं हैं और युवाओं बेरोजगारों और आम जन की आवाज पुरजोर तरीके से उठाते रहेंगे।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/