जयपुर राजस्थान

राज्यसभा चुनाव में एसीबी की एंट्री, विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका के चलते परिवार दर्ज कराएगी कांग्रेस

जयपुर। प्रदेश में साल 2020 में आए सियासी संकट के दौरान सरकार गिराने के षड़यत्र और विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में एसओजी और एसीबी हुई एंट्री के बाद एक बार फिर राज्यसभा चुनाव में भी एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) की एंट्री हो गई है। चार राज्यसभा सीटों पर पर हो रहे चुनाव में विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका के चलते कांग्रेस पार्टी आज एसीबी में परिवाद दर्ज कराने जा रही है। विधायकों की खरीद-फरोख्त की आशंका के चलते कांग्रेस पार्टी की ओर से कैबिनेट मंत्री और विधानसभा में मुख्य सचेतक महेश जोशी दोपहर 12 बजे झालाना स्थित एसीबी मुख्यालय पहुंचेंगे और परिवाद दर्ज कराएंगे।
इनपुट के बाद कांग्रेस पार्टी ने लिया फैसला
बताया जाता है कि निर्दलीय विधायकों से संपर्क साधने और उन्हें प्रलोभन दिए जाने की इनपुट के बाद कांग्रेस पार्टी ने खरीद-फरोख्त की आशंका का मामला एसीबी में दर्ज कराने का फैसला लिया है। सूत्रों की मानें तो कई विधायकों ने भी इस बारे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इनपुट दिया था। वही एसीबी में खरीद फरोख्त का मामला पहुंचने के बाद राजस्थान की सियासत में घमासान होना तय है। हालांकि इस मामले में फिलहाल बीजेपी की कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।
सियासी संकट के दौरान भी हुई थी एसओजी और एसीबी की एंट्री
इससे पहले साल 2020 में सचिन पायलट कैंप की ओर से बगावत करने के बाद सरकार पर आए सियासी संकट के दौरान भी विधायकों को खरीदने और सरकार गिराने की षड़यंत्र के आरोप लगाते हुए कांग्रेस पार्टी ने एसओजी और एसीबी में मुकदमा दर्ज करवाया था। इस मामले में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत सहित कई बीजेपी के नेताओं पर भी सरकार गिराने के षड्यंत्र रचने के आरोप लगाए गए थे।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/