न्यूज़

जमीनी धरातल पर काम करने वाले संगठन की आज सैनी समाज को बहुत आवश्यकता है- सुभाष सैनी

 

 

समाज को संगठित करने के लिये बुजर्गो के मार्ग दर्शन में समाज सेवियों व युवा वर्ग को जमीनी धरातल पर काम करने की अति आवश्यकता

जयपुर(रवि सैनी ) । सैनी वर्ल्ड इॅकोनोमिक फोरम की प्रदेश स्तरीय बैठक प्रदेश कार्यालय जयपुर में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष भंवर लाल सैनी की अध्यक्षता में आयोजित हुई बैठक का शुभारम्भ महात्मा ज्योतिबा फुले व माता सावित्री बाई फुले के छायाचित्र पर दीप प्रज्जवलित व माल्यापर्ण कर किया गया। इसके पश्चात राजस्थान के विभिन्न जिलों से आये संगठन के पदाधिकारीयो व कार्यकर्ताओं का परिचय हुआ । इस अवसर पर पदाधिकारीयो व कार्यकर्ताओं को सैनी वर्ल्ड इॅकोनोमिक फोरम के संस्थापक सुभाष सैनी ने सम्बोधिंत करते हुए कहा कि समाज को संगठित करने के लिये बुजर्गो का मार्ग दर्शन लेकर समाज सेवियों व युवा वर्ग को काम करना होगा ।

उन्होंने कहा की जमीनी धरातल पर काम करने वाले संगठन की आज सैनी समाज को बहुत आवश्यकता है। उसी उद्देश्य को लेकर सैनी वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम संगठन का विगत 6 वर्षो पूर्व सत्र 2012-13 में गठन किया गया है। उन्होंने कहा की सैनी वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम समाज को संख्या के अनुपात में सामाजिक ,आर्थिक , राजनीतिक एवं प्रशासनिक क्षेत्र में सहभागिता मिले इसके लिए प्रयासरत एक गैर राजनीतिक , सामाजिक एवं सांस्कृतिक संगठन है ।

संगठन का जो मुख्य उद्धेश्य है उसको पूरा करने के लिए समाज सेवी लोगो व समाज के युवा वर्ग को संगठन के साथ जोड़कर समाज के बुजर्गो का मार्ग दर्शन व अनुभवो का लाभ लेते हुये समाज के युवा वर्ग को संगठन से जोड़ते हुये जमीनी धरातल पर कार्य करते हुये समाज को सभी क्षेत्रो में आगे बढ़ाने के लिये प्रयास करना होगा ।

जिससे सैनी समाज भी अन्य समाजो की तरह आगे बढ़ते हुये अग्रिम पंक्ति में खड़ा होकर राष्ट्र निर्माण में अपनी भागेदारी सुनिशिचित कर सके । सुभाष सैनी ने बैठक में उपस्थित समाज के लोगों को संगठन का अर्थ , शक्ति, महत्व,व्यवहार, विशेषता के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुये कहा कि जो व्यक्ति परिवार ,संस्था एवं समाज समय के अनुसार अपने आप में परिवर्तन करते रहते है वे ही शिखर पर होते हैं।

आज हमारे समाज को भी प्रगति के पथ पर अग्रसर होने के लिये अकेले चलने के बजाय समूह में चलने की बहुत आवश्यकता है। समाज का कोई समूह या संगठन छोटा हो तो बड़ा बनाये ओर बड़ा हो तो ओर अधिक बडा कैसे बने इस विषय पर समाज को सामूहिक चिंतन की बहुत आवश्यकता है। स्वेप समाज को आगे बढ़ाने के लिये सामाजिक, आर्थिक ,राजनीतिक एवं प्रशासन क्षेत्र में संख्या के अनुपात में समाज को सहभागिता मिले इसके लिये ये संगठन काम कर रहा है।

उन्होंने अपने सम्बोधन को पुनः दोराते हुये कहा कि ये संगठन गैर राजनीतिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संगठन है इस संगठन से समाज का जो व्यक्ति चाहे किसी भी राजनैतिक पार्टी से सम्बंध रखता हो वो समाजहित में कार्य करने के लिये निस्वार्थ भाव से राजनैतिक पार्टी की विचारधारा का चोला उताकर संगठन में जुडकर कार्य कर सकता है। संगठन द्वारा समाजहित में आयोजित होने वाली सभाओं कार्यक्रमों में राजनैतिक विचारधारा को अलग रखते हुये समाज के विकास की बात करनी होगी।

उन्होंने बैठक में प्रदेश के सभी जिलो से आये पदाधिकारियो व समाज सेवियों को संगठन के विस्तार करने की बात कही साथ ही आगमी महा सितम्बर में संगठन का स्थापना सप्ताह मनाये जाने का विचार सभी पदाधिकारियो के समक्ष रखा इस पर आपसी विचार विमर्श के पश्च्यात सप्ताह मनाने का निर्णय सर्व सहमति से लिया गया साथ ही इस सप्ताह के दौरान संगठन का विस्तार गांव -गांव ,ढाणी -ढाणी तक किया जावे एवं समाज को संगठित करने व जागरूकता का कार्य किया जावे आदि निर्णय भी पारित किये गये |इस अवसर पर बैठक में उपस्थित संगठन के पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुये राष्ट्रीय संयोजक भभूत राम सोलंकी ने कहा कि सैनी वर्ल्ड इॅकोनोमिक फोरम संगठन वो संगठन है जो विश्वभर में सैनी समाज के विकास ओर उन्नति के लिये कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि माली समाज का गौरन्वित इतिहास रहा है।

समाज में संत महात्मा गौत्तम बुद्व, संत सांवता माली, संत लिखमीदास, समाज सुधारक महात्मा ज्योतिबा फुले, सावित्री बाई फुले, सम्राट महाराजा शूरसैनी, चन्द्रगुप्ता मोर्य, अशोक सम्राट जैसे महापुरूषों ने जन्म लिया है।उन्होंने कहा कि माली समाज वट वृक्ष की तरह है जिसकी सैकडों शाखाएं फेली है जैसे फूल माली, कुशवाहा, मोर्य, सुमन आदि है जिसे संगठित करने का कार्य यह संगठन प्रदेश, देश के साथ-साथ अन्तर्राष्ट्रीय पर भी कर रहा है।

संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष भंवर लाल सैनी ने संगठन का महत्व समझाते हुये कहा कि जब दो या दो से अधिक व्यक्ति मिलकर किसी उद्देश्य की प्राप्ति के लिये कार्यशील होते हुये तो संगठन की आवश्यकता पड़ती है इसलिये सही मायने में समाज व भगवान की सेवा तभी संभव है जब प्रत्येक समाज बंधु एक दूसरे के भाव को समझते हुये प्रत्येक जिला, उपखण्ड , गांव ओर ढाणी में संगठन को कड़ी से कड़ी जोडकर निस्वार्थ भाव से समाज के लोगों की सेवा करेगा। उन्होंने कहा कि सभी लोगों के संगठित प्रयासों के द्वारा ही ये संगठन समाज को एकता के सूत्र में बांधते हुये एक मजबूत एवं संगठित समाज का निर्माण किया जा सकता है।

झुंझनू उप जिला प्रमुख बनवारी लाल सैनी ने कहा कि समाज को अन्य विकसित समाजों की पंक्ति में खडा करने के लिये समाज के लोगों का राजनीतिक क्षेत्र में आगे बढ़ना बहुत आवश्यक है, राजनीति क्षेत्र में आगे बढे़ बिना समाज का विकास संभव नहीं है आज जिन समाजों का राजनीति में वर्चस्व है वो समाज विकसित समाजों की श्रेणी में है ओर वो हर स्तर पर अपनी बात रखने में सक्षम होते है। उन्होंने कहा कि सामाजिक संगठन को मजबूत करने के लिये लोगों में त्याग, सेवा, समर्पण, सहयोग ओर समयदान की विशेष आवश्यकता पड़ती हैए समाज के लोगो को स्वयं से अहम् की भावना का त्याग करना होगा। जिस किसी भी व्यक्ति को समाज का नेतृत्व करने के लिये समाज के लोगों द्वारा अवसर दिया जाता है सभी समाज के लोगों को उसके साथ कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग की भावना से कार्य करना होगा जब ही समाज ओर ये संगठन आगे बढ सकेगा।

संगठन के राष्ट्रीय कौर कमेठी सदस्य व टोंक माली समाज जिलाध्यक्ष कमलेश सिंगोदिया ने कहा कि हमे गर्व है कि हमने जिस समाज में जन्म लिया है उसका इतिहास गौरान्वित रहा है माली समाज को अपना इतिहास याद रखते हुये हर परिस्थितियों का सामना करते हुये आगे बढ़ना है। उन्होंने कहा कि जब तक व्यक्ति समुदाय या संगठन में रहता है तब तक उसका अस्तित्व है संगठन से बाहर होने पर व्यक्ति का पतन निश्चित है। संगठन से बड़ी कोई शक्ति नहीं है।

बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष नरेन्द्र सैनी चुरू , भारतेंदु सैनी हनुमानगढ , प्रदेश मंत्री रमेश चन्द सैनी रहमानदिया टोंक , महेन्द्र सैनी सीकर , फूलचन्द सैनी झुन्झुनू , भगवान माली सवाई माधोपुर , महिला प्रदेशाध्यक्ष हेमलता सैनी जयपुर , महिला प्रदेश मंत्री अन्जू सैनी श्रीगंगानगर , स्वेफ सर्विसेज प्रकोष्ठ सुनील सैनी अलवर , प्रदेश सहप्रमुख रामस्वरूप सैनी जयपुर , भॅवर लाल सैनी चुरू , नवरत्न सैनी चाकसु , राकेश सैनी कोटखावदा जयपुर , अनिल सैनी चुरू , चन्द्रमोहन सैनी चुरू , शंकर सैनी सीकर , परमानन्द सैनी सीकर , अक्षय कुमार सैनी सीकर , जितेन्द्र सैनी सीकर , महेन्द्र सैनी झुन्झुनू , मुकेश कुमार माली सवाईमाधोपुर , रामचन्द्र सैनी जयपुर , राकेश कुमार सैनी जयपुर , राजेन्द्र कुमार सैनी उर्फ बबलू टेंकर टोंक , लालाराम भाटी जेतारण पाली , हंसराज माली पोकरण जैसलमेर , एस. आर. सैनी जयपुर , दिनेश सैनी बगड झुन्झुनू , चैलाराम सोलंकी जालौर , दिलिप सोलंकी जालौर , चन्द्रप्रकाश सुमन कोटा , प्रतिक सुमन कोटा , सुनिल गहलोत कोटा , लक्ष्मी चन्द सुमन कोटा , हरिराम सैनी कोटा , प्रदीप सैनी कोटा , विष्णु कुमार सैनी कोटा , कंचन सैनी जयपुर , मूलचन्द सैनी जयपुर , अनिल सैनी जयपुर , कृष्ण कुमार सैनी जयपुर , मंजू सैनी अलवर , ज्योति सैनी जयपुर , राहुल सैनी जयपुर , ओमप्रकाश सैनी जयपुर , रामानन्द सैनी मानसरोवर जयपुर , विजेन्द्र कुमार सैनी , एडवोकेट रामनिवास सैनी उदयपुरवाटी , हरिराम सैनी खंडेला , कैलाश चन्द सैनी जयपुर , अभिजीत सैनी जयपुर , नान्नुराम सैनी उदयपुरवाटी , मधुशेखर चैहान जयपुर , मदन लाल सैनी जयपुर , कंचन टाॅक जयपुर , ओमप्रकाश सैनी जयपुर सहित सैनी समाज के प्रदेशभर से सभी जिलो से संगठन के पदाधिकारी ,समाज सेवी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *