स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के नाम आमजन को परेशान कर रही है सरकार-खाचरियावास

कांग्रेस नेताओं के साथ स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का लिया जायजा, किशनपोल के व्यापारियों ने जोरदार स्वागत करके होने वाली परेशानियों से कराया अवगत           जयपुर । जयपुर जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास के नेतृत्व में आज कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ अजमेरी गेट से किशनपोल बाजार में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के नाम पर किये जा रहे …

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के नाम आमजन को परेशान कर रही है सरकार-खाचरियावास Read More »

June 8, 2018 11:20 am

कांग्रेस नेताओं के साथ स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का लिया जायजा,

किशनपोल के व्यापारियों ने जोरदार स्वागत करके होने वाली परेशानियों से कराया अवगत

          जयपुर । जयपुर जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास के नेतृत्व में आज कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ अजमेरी गेट से किशनपोल बाजार में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के नाम पर किये जा रहे कार्यों का जायजा लिया। अजमेरी गेट पहुंचे प्रतापसिंह खाचरियावास का किशनपोल व्यापार मण्डल के व्यापारियों, स्थानीय नागरिकों और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त स्वागत किया। अधिकतर व्यापारियों ने स्मार्ट सिटी के नाम पर उनके काम-धंधे चौपट होने का आरोप लगाते हुये कहा कि हमारे काम-धंधे चौपट हो गये हैं, एम्बूलेंस तक रास्ते से निकल नहीं सकती है, कोई जवाब देने वाला नहीं है, सड़क छोटी कर दी गई है, कुछ लोगों को विश्वास में लेकर 90 प्रतिशत व्यापारियों के विरोध को दरकिनार किया जा रहा है, सराफा व्यापारियों की स्थिति और भी ज्यादा खराब थी। उन्होंने अपनी दुकानों की स्थिति दिखाते हुये खाचरियावास को बताया कि उनकी 51 दुकानें बंद पड़ी हैं, पिछले चार वर्षों से मेट्रो प्रोजेक्ट के कारण जाम था, अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट ने तो सिर्फ ड्रेनेज डालने के नाम पर हमारे व्यापार पूरी तरह से चौपट कर दिये हैं। इस दौरान व्यापारियों को खाचरियावास ने भरोसा दिलाया कि उनकी सभी समस्याओं को सरकार तक पहुंचाया जायेगा, यदि सरकार ने समस्या का समाधान नहीं किया तो वे खुद सड़क पर उतरकर सरकार को मजबूर करके व्यापारियों की समस्याओं का समाधान करायेंगे।

 

खाचरियावास ने कहा कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के नाम पर 2600 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है, अब तक लगभग 150 करोड़ रूपये खर्च किये जा चुके हैं तथा 550 करोड़ के काम अभी चल रहे हैं। यह सारा पैसा भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रहा है। स्मार्ट सिटी के नाम पर जयपुर के हैरिटेज को खत्म करके बहुत ही घटिया स्तर का काम किया जा रहा है। काम को देखकर साफ नजर आता है कि भारी भ्रष्टाचार हो रहा है। बीच में ड्रेनेज डालने का कोई औचित्य नहीं है, किशनपोल की सड़क के दोनों तरफ पानी की लाईने, बिजली की लाईने सभी पहले से डाली हुई हैं, इसके बावजूद सड़क को छोटी करके फुटपाथ को बड़ा करना, उसमें भी घटिया क्वालिटी का काम करना सीधे-सीधे अधिकारियों और नेताओं के कमीशन के लिये किया गया काम नजर आ रहा है।

 

खाचरियावास ने कहा कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में भाजपा सरकार के बड़े नेता, नगर निगम के अधिकारी, बड़े घोटाले को अंजाम दे रहे है। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में जितना पैसा आया है उस 2600 करोड़ रूपये में एक नया जयपुर, जिसमें समार्ट और हैरिटेज दोनों लुक आते हों, बसाया जा सकता था। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में यदि अलबर्ट हॉल, हवामहल, जलमहल जैसे कुछ नये यादगार प्रोजेक्ट बनाये जाते तो वो सदियो तक याद किये जाते, लेकिन सिर्फ पार्किंग खत्म करना, ट्रेफिक जाम करना, लोगों की परेशानी बढ़ाना और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के नाम पर बिना प्लानिंग के करोड़ों रूपयों की बर्बादी कर देना, भाजपा सरकार द्वारा जयपुर की जनता को दिया गया सबसे बड़ा धोखा है। इस संदर्भ में कांग्रेस पार्टी सोमवार को लोकायुक्त से मिलकर  समार्ट सिटी प्रोजेक्ट के घोटाले को तथ्यों के साथ प्रस्तुत करके लोकायुक्त में शिकायत दर्ज करायेगी तथा कांग्रेस की सरकार बनने पर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की जांच कराकर भ्रष्ट अधिकारियों और नेताओं के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।

जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास के साथ दौरे में कांग्रेस नेता-अमीन कागजी, ज्योति खण्डेलवाल, संजय मामा, नितेश पालीवाल, आर.आर. तिवाड़ी, निजाम कुरेशी ब्लॉक अध्यक्ष-श्रीप्रकाश रावत, अब्दुल रहूफ, मनोज मुदगल, पदाधिकारी-ऋषि शर्मा, कविता शर्मा, संजू शर्मा, सौरभ सोनी, रामावतार अग्रवाल, राजेन्द्र बागड़ा, सतीश शर्मा, संजीव जूनीवाल, दीपक रामनानी, मकसूद भाई, कैलाश बिन्दायका, टेकचन्द शर्मा, कमल तिवाड़ी, दयाशंकर सोनी, गोपाल कृष्ण शर्मा, कजोड़ मूर्तिकार, उमाशंकर मूर्तिकार, राजकुमार बागड़ा, लक्ष्मणदास मोरानी, जगदीश चौधरी , करण शर्मा सहित सैकडों कार्यकर्ता शामिल थे।

 

 

 

 

 

 

Prev Post

असामाजिक तत्वों ने किया शिव लिंग खंडित

Next Post

हिंदी मासिक पत्रिका ‘ओम एक्सप्रेस’ की चतुर्थ वर्षगांठ समारोहपूर्वक आयोजित

Related Post