प्रशासन की अनदेखी से सडक़ पर अवैध बजरी के वाहनों का साम्राज्य

बौंली  (राजेश मीना) । सवाई माधोपुर जिले के बौली उपखण्ड क्षेत्र के ग्राम पंचायत हथडोली एवं निमोद राठौद सीमा पर बनास नदी से होने वाले बजरी के अवैध खनन तथा ओवरलोड़ परिवहन पर अंकुश के खनन विभाग सहित परिवहन विभाग एवं बोंली पुलिस के दावे खोखले साबित हो रहे हैं। इस समय पिछले चार माह से …

प्रशासन की अनदेखी से सडक़ पर अवैध बजरी के वाहनों का साम्राज्य Read More »

September 8, 2018 1:43 pm

बौंली  (राजेश मीना) । सवाई माधोपुर जिले के बौली उपखण्ड क्षेत्र के ग्राम पंचायत हथडोली एवं निमोद राठौद सीमा पर बनास नदी से होने वाले बजरी के अवैध खनन तथा ओवरलोड़ परिवहन पर अंकुश के खनन विभाग सहित परिवहन विभाग एवं बोंली पुलिस के दावे खोखले साबित हो रहे हैं।

इस समय पिछले चार माह से लगातार हो रहे बजरी खनन से पीपलवाड़ा से लेकर बांसड़ा नदी तक 6 किलोमीटर डामरीकृत सड़क मार्ग का नामोनिशान तक मिट चुका है और सड़क मार्ग पर 1 से 3 फीट तक गहरे गड्ढे हो चुके हैं।

सड़क मार्ग पर कीचड़ युक्त गंदगी जमा होने से बांसड़ा नदी गांव के पीपलवाड़ा कस्बे में अध्ययन करने वाले 330 से अधिक बालक बालिकाओं को रोजाना पढ़ाई के लिए आने जाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

आये दिन रोजाना बांसड़ा नदी गांव से गुजरने वाले लगभग 8 सौ से अधिक ट्रैक्टर ट्रॉली के निर्गमन से कई ट्रैक्टर ट्रॉली के फंस जाने से गांव के बीच बनास नदी से अवैध तरीके से बजरी भरकर ला रहे दर्जनों ट्रैक्टर-ट्रॉलियों की लाइनें लगी रहती है।


इसी प्रकार शनिवार सुबह 6:00 बजे के लगभग लाखनपुर से मित्रपुरा की ओर निकल रहे बजरी ट्रैक्टर ट्रॉली खोहरी तलाई के पास एक खाई में पलट गई इससे ट्रैक्टर चालक घायल हो गया ।

क्षेत्र के ग्रामीण धारासिंह अधाना ने बताया कि बोरखेड़ा का एक युवक बजरी भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर मित्रपुरा की ओर निकल रहा था की तलाई के पास सड़क मार्ग के बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने से ट्रैक्टर ट्रॉली खाई में पलट गई ।

ग्रामीणों को पता लगने पर घायल चालक को लेकर चिकित्सालय के लिए रवाना किया तथा बौंली से क्रेन मशीन मंगवा कर खाई से ट्रैक्टर ट्रॉली को निकाला गया। ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र से प्रतिदिन सैकड़ों अवैध बजरी से भरें ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के निकलने से सड़क मार्ग बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। इससे बरसात के दिनों में सड़क मार्गों से दोपहिया चालकों का निकलना दुश्वार हो गया है बड़े वाहन तो निकल ही नहीं सकते ।

बजरी के वाहनों से आए दिन दुर्घटनाएं हो रही है ।शुक्रवार को मोरन के पास भी ऐसा ही एक हादसा हो गया लेकिन दुर्घटना में घायल लोग बच गए । ग्रामीणों का आरोप है कि इस समय शिसोलाव में पुलिस चौकी कायम होने के बावजूद भी बजरी कि ट्रैक्टर-ट्रॉलियों का निकलना एक गंभीर मामला है ।

पुलिस प्रशासन व खनन विभाग की इस अनदेखी से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है ।उन्होंने बजरी भरकर निकल रही ओवरलोड ट्रैक्टर-ट्रॉलियों पर अविलंब रोक लगाने की मांग की है ताकि सड़क मार्ग सुरक्षित रह दुर्घटनाओं पर विराम लग सके।

Prev Post

नील गाय को बचाने के चक्कर में स्विफ्ट डिजायर व बोलेरो में भिड़ंत 2 की मौत 5 घायल

Next Post

तिवाड़ी ने मुख्यमन्त्री पर निशाना साधा,कहा -मुख्यमन्त्री भ्रष्टाचार में लिप्त मन्त्रियों को बचाने में लगी

Related Post