दिन दहाड़े सरपट दौड़ रहे बजरी के वाहन, मिली भगत से चल रहा सफेद सोने का काला कारोबार

पीपलू (ओपी शर्मा)। पीपलू उपखंड क्षेत्र के बरोनी थाना क्षेत्र में बनास नदीं मे जहां बजरी खनन पर न्यायालय ने रोक लगा रखी है। वही इसके बावजूद बरोनी थाना क्षेत्र के मडावर, चिरोज, देवली भांची, बहडं, जामडोली, सोहेला, आदि मे अवैध बजरी खनन कर दिन दहाड़े धड़ल्ले से बजरी का परिवहन किया जा रहा है। सोमवार को भी भीड़ भाड़ वाले इलाके से दिन भर बजरी के भरे ट्रेक्टर ट्रॉली सरपट दौड़ते रहे।

इसके बावजूद पुलिस कर्मी बजरी के वाहनों पर कार्रवाई के लिए थाने से बाहर तक नही निकल रहे। ऐसे में मिली भगत से बजरी खनन व परिवहन संचालन की बात से इनकार नही किया जा सकता। सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की खुले आम धज्जिया उड़ रही है।

 

इससे ग्रामीणों में आक्रोश तो है, लेकिन बजरी माफियाओ की दबंगाई के चलते कोई भी सफेद सोने के काले कारोबार का खुल कर विरोध नही कर पा रहा है ।सूत्रों की माने तो इन दिनों बरोनी थाना क्षेत्र में अवैध खनन कर बजरी परिवहन करने वाले वाहनों की तादाद में एका एक इजाफा हो गया। न्यायालय की रोक के बावजूद दिन में भीड़ भाड़ वाले क्षेत्र में सरपट दौड़ते बजरी के ओवरलोड वाहन स्थानीय पुलिस व जिम्मेदार विभागों की कार्यप्रणाली दर्शाने को काफी है। लोग सब कुछ जानते है, लेकिन चुप है। वाहनों में बिना तिरपाल से ढके क्षमता से अधिक बजरी वाहनों की रफ्तार के साथ उड़ती है। इससे आम जन की जान को भी खतरा बना रहता है।

Previous articleबीकानेर मे राशन कार्ड मे फर्जीवाड़ा 60 हजार नाम हटाए
Next articleमावठ की बारिश से खिले किसानों के चेहरे
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।