विपक्ष के पास करने के लिए केवल दुष्प्रचार ही रह गया है – अजीत सिंह मेहता

Tonk News । भाजपा के पूर्व विधायक एवं दौसा के प्रभारी रहे अजीत सिंह मेहता ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किसानों के हित में लाया गया विधेयक भारतीय कृषि इतिहास के लिए ऐतिहासिक दिन था। मेहता ने बताया कि देश के अन्नदाताओं की खेती के लिए गये अभूतपूर्व निर्णय से ना केवल अन्नदाताओं को बिचौलियों से चगुंल से मुक्त होगें बल्कि अपनी उपज बेचने के लिए नया बाजार उपलब्ध करवा कर किसान की आर्थिक स्थिति को संबल प्रदान करेगा ।


पूर्व विधायक अजीत सिंह मेहता बुधवार को इस संवाददाता से अनौपचारिक बाचतीत में बोल रहे थे । मेहता ने कहा कि विपक्ष के पास आज बताने के लिए कुछ भी नही हैं, केवल हैं तो वो दुष्प्रचार ही हैं। उन्होने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार देश के अन्नदाताओं के कल्याण एवं सर्वागंीण विकास के लिए कटिबद्ध हैं। केन्द्र की मोदी सरकार ने किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, ई मंडी,फसल बीमा, तथा कृषि क्षेत्र के उन्नयन के लिए एक लाख करोड़ रू. का अलग से आवंटन कर देश के अन्नदाता खुशहाल एवं सम्पन्न हो सके ।


मेहता ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद को आज की आवश्यकता बताई । किसान समर्थन मूल्य केन्द्रांे पर अपनी उपज बेचे। ताकि उन्हे सही दाम मिले। कांग्रेस के पास अब लोगो को बहकाने के अलावा और कोई काम बचा ही नही हैं। इसलिए किसान भाई उक्त पार्टी के बहकावे में नही आए। उन्होने कहा कि किसानों को राज्य की मंडी से बाहर फसल बेचने की स्वतंत्रता हैं। उनके पास विकल्प हैं कि वो मंडी बेचे या मंडी से बाहर बेचे । अनाज, दलहन,तिलहन, खाद्य तेल, प्याज, आलू पर सरकारी नियंत्रण हटा दिया है। उन्होने कहा कि मंडियां बंद नही होगी तथा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद जारी रहेगी।


पूर्व विधायक अजीत सिंह मेहता ने बताया कि राज्य में शासन का इकबाल खत्म हो रहा है। नौकरशाही हावी हो रही है। समस्या समाधान के नाम पर कागज एकत्रित किये जा रहे है। उन्होने बताया कि सभी उपखण्ड़ अधिकारी अपने अपने क्षेत्र में, अतिरिक्त जिला कलेक्टर, एवं जिला कलेक्टर सप्ताह में दो दिन ग्राम पंचायतों में जा जा कर लोगों की समस्याऐ सुन रहे हैं। इसके अतिरिक्त प्रतिमाह द्वितीय गुरूवार को जिला कलेक्टर परिसर के आई टी केन्द्र में सुनवाई की जा रही हैं। लेकिन समाधान एक भी समस्या का नही कर रहे। समस्याऐं जस की तस हैं। केवल कागज ही एकत्रित की जाकर कागजी खानापूर्ति की जा रही है। मेहता के साथ भाजपा के वरिष्ठ नेता दीपक संगत, रमेश गढ़वाल,जयनारायण वर्मा, रामावतार धाबाई आदि साथ थे।