नवरात्र में बाबा रामदेव के दर्शनार्थ देश-प्रदेश से उमड़ रहे श्रद्धालु

बाबा रामदेव पीर
File Photo

Jaisalmer news । वैश्विक महामारी कोरोना के कारण जिले के सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्र रामदेवरा में इन दिनों जनजीवन पूर्णतया सामान्य हो गया है। राज्य सरकार द्वारा मंदिरों को बंद करने के साथ ही प्रशासन ने रामदेवरा में बाबा रामदेव की समाधि परिसर को बंद करवाया था। सात माह तक मंदिर नहीं खुलने के कारण दुकानदारों ने रामदेवरा में लॉकडाउन लगाए रखा। ऐसे में रामदेवरा आने वाले श्रद्धालुओं के साथ साथ दुकानदारों और स्थानीय लोगों को परेशानी उठानी पड़ी। लेकिन, सरकार द्वारा मंदिर खोलने के आदेश देते ही समाधि समिति ने गाइड लाइन की पालना करते हुए श्रद्धालुओं को बाबा रामदेव के दर्शन करवाने की व्यवस्था की।


पिछले सात महीनों से लॉकडाउन का दंश झेल रही रामदेवरा क्षेत्र की दुकानें मंदिर खुलने के साथ ही खुल चुकी है। इन दिनों रामदेवरा में जनजीवन भी सामान्य होने लगा है। जिला प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे नो मास्क-नो एंट्री अभियान की भी रामदेवरा में पालना की जा रही है।


रामदेवरा में दूरदराज से पहुंच रहे श्रद्धालुओं की आस्था इन दिनों कोरोना के भय को भी मात दे रही है। दूरदराज से पैदल बाबा रामदेव की समाधि के दर्शनों की कामना को लेकर श्रद्धालु इन दिनों रामदेवरा पहुंच रहे हैं। इसके चलते इन दिनों रामदेवरा परिसर में चहलपहल है। दुकानदार और श्रद्धालु मुंह पर मास्क पहने बाबा की आराधना कर रहे हैं। नवरात्र के चलते रामदेवरा में श्रद्धालुओं की रेलमपेल लगी हुई है।


बाबा रामदेव की समाधि के दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को इन दिनों समाधि समिति द्वारा कोविड 19 की गाइड लाइन की जानकारी देने के साथ-साथ समाधि परिसर में सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन किया जा रहा है। समय-समय पर सैनेटाइज, दो गज की दूरी के साथ थर्मल स्कैनिंग के साथ-साथ यात्रियों के मास्क लगे होने पर भी पूर्ण ध्यान दिया जा रहा है। समाधि समिति द्वारा बिना मास्क श्रद्धालुओं को समाधि परिसर में प्रवेश भी नहीं दिया जा रहा है।


सडक़ हादसे में 3 घायल


पोकरण क्षेत्र में जोधपुर रोड पर लवां गांव के पास रविवार को अज्ञात वाहन ने रामदेव बाबा की समाधि के दर्शन करने पैदल आ रहे श्रद्धालुओं को बोलेरो गाड़ी ने टक्कर मार दी। हादसे में 1 युवक और 2 महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गईं। गंभीर घायलों को एम्बुलेंस की सहायता से पोकरण राजकीय सामुदायिक केंद्र लाया गया, जहां चिकित्सकों ने तीनों को प्राथमिक उपचार देकर जोधपुर के लिए रेफर कर दिया। जानकारी के अनुसार देड़ा निवासी पम्माराम (23) पुत्र भगाराम अपने रिश्तेदार देऊ (30) पत्नी अमलखराम निवासी ठाडिया देचू, मोहनीदेवी (45) पत्नी घेवरराम निवासी ठाडिया देचू सहित अन्य लोगों के साथ पैदल बाबा की समाधि दर्शन के लिए जा रहे थे। इसी दौरान लवां गांव के पास रविवार अलसुबह बोलेरो गाड़ी ने उन्हें टक्कर मार दी। इससे पम्माराम, देऊ और मोहनीदेवी गंभीर घायल हो गए। घटना की सूचना मिलने पर एम्बुलेंस के जरिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने तीनों घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद जोधपुर रेफर कर दिया