राजस्थान में गहलोत सरकार ने आमजन को दी राहत, कोरोना टेस्ट किया सस्ता

Jaipur News । राजस्थान में कोरोनावायरस संक्रमण का कहर पुणे एक बार बढ़ने के साथ ही परेशान आम जन को राहत देने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज एक कारगर कदम उठाते हुए कोरोना टेस्ट की दर को घटाकर प्रदेश की जनता को आम राहत दी है साथी उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना संक्रमण शहरों में नहीं गांव में भी फैल रहा है और अब तक हुई मौतों में से करीब 700 जाने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना से गई है ।

राजस्थान में कोरोना के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे है ऐसे में सरकारी अस्पतालो के अलावा आमजन बड़ी संख्या में लोग कोरोना की जांच के लिए निजी अस्पतालों व निजी लेबोट्रीज का सहारा ले रहे है लेकिन निजी लैब में उन्हें यह जांच कराने के लिए अब तक 1200 रुपये का शुल्क देना पड़ रहा था। ऐसे में अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आम लोगों को राहत देते हुए फैसला किया है कि राज्य की निजी लैब में कोविड के लिए होने वाला आरटीपीसीआर टेस्ट अब 800 रुपए में किया जाएगा।  शनिवार को चिकित्सा विभाग की वीडियो कांफ्रेंस के दौरान सीएम गहलोत ने यह बात कही। इस दौरान चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, चिकित्सा राज्यमंत्री डॉक्टर सुभाष गर्ग समेत चिकित्सा विभाग के आला अधिकारी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री की ओर से इस संबंध में घोषणा होने के बाद अब इसके औपचारिक आदेश जारी कर दिए जाएंगे।

चीन के कीट निकले फर्जी

राजस्थान में कोरोना जांच के लिए केवल आरटीपीसीआर टेस्ट ही किए जा रहे है। मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि एंटीजन टेस्ट के लिए चीन से जो किट आई थी, वो फर्जी निकली। सभी किट को वापस चाइना भेजना पड़ा। उन्होंने कहा कि नया एंटीजन टेस्ट भी काम का नहीं रहा।

हर विधानसभा में एक सीएचसी बनेगी आधुनिक

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि लोगों को यह भ्रम है कि गांवों में कोरोना नहीं फैल रहा है। जबकि हकीकत यह है कि अब तक कोरोना से जो मौत हुई है, उनमें से करीब 700 मौतें राजस्थान की ग्रामीण इलाकों में हुई है। उन्होंने हर विधानसभा में एक सीएचसी को आधुनिक बनाने की बात कही। साथ ही कहा कि वैक्सीन से ज्यादा काम तो मास्क करेगा।

मुख्यमंत्री ने शनिवार को जयपुर के आरयूएचएस अस्पताल में 70 बेड वाले कोविड आईसीयू, हनुमानगढ़, प्रतापगढ़, जैसलमेर, टौंक, बूंदी और राजसमन्द के नाथद्वारा में कोविड जांच लैब के साथ जोधपुर के एमडीएम अस्पताल में कैंसर वार्ड समेत अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं का ऑनलाइन लोकार्पण किया।

इस दौरान मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि मार्च से हम कोरोना के इलाज में लगे हैं। देश में सिर्फ राजस्थान और तमिलनाडु दो राज्यों में कोरोना के 100 प्रतिशत टेस्ट आरटी-पीसीआर किट से हो रहे हैं। जो पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा विश्वसनीय टेस्ट है। इसमें पॉजिटिव आने वाले 100 प्रतिशत पॉजिटिव हैं। दिल्ली समेत देशभर में जो एंटीजन टेस्ट हो रहे हैं, उनमें 30 प्रतिशत से ज्यादा आंकड़े गलत आते हैं। सीएम ने कहा कि हमारे चिकित्सा विशेषज्ञों ने चीन से आए सभी टेस्ट किट की टेस्टिंग की। इससे पता चला कि वो फर्जी हैं। इसके बाद केंद्र सरकार व आईसीएमआर को लिखा गया। इसके बाद हमने राजस्थान में आरटी-पीसीआर टेस्ट को प्राथमिकता दी।