राजस्थान में 15 दिन ,24 जिले, 3 हजार पक्षियों की मौत,बर्ड फ्लू की पुष्टि

file photo

Jaipur news राजस्थान में बर्ड फ्लू के संक्रमण का दायरा अब 11 से बढकर 13 जिलों तक फैल गया है। इन जिलों में अब तक 2950 परिन्दे असामयिक मौत का शिकार बन चुके हैं। प्रदेश के 24 जिलों से मृत परिन्दों के 226 नमूने जांच के लिए मध्यप्रदेश की भोपाल स्थित रेफरल लैब (निशाद) को भेजे जा चुके हैं, जहां से 13 जिलों के 51 नमूने पॉजिटिव पाए जा चुके हैं।

राज्य के झालावाड़ जिले से सर्वप्रथम कौओं की मौतों से शुरु हुआ परिन्दों की असामयिक मौतों का सिलसिला अब तक जारी है।

 

अब तक कितने पक्षी मरे

 

प्रदेश में 25 दिसम्बर से रविवार तक मृत पक्षियों की कुल संख्या बढक़र 2950 हो चुकी हैं। इनमें 2289 कौएं, 170 मोर, 156 कबूतर, 2 प्रवासी पक्षी, 50 मुर्गियां तथा 283 अन्य पक्षी शामिल है।

आज कितने पक्षी मरे

प्रदेश में रविवार को भी विभिन्न जिलों में 428 पक्षी मृत मिले हैं, जिनमें 326 कौएं, 18 मोर, 34 कबूतर व अन्य पक्षियों की संख्या 50 रही। भोपाल की रेफरल लैब से रविवार को प्रतापगढ़ तथा सिरोही जिले से पूर्व में भेजे गए नमूनों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई हैं।

 

यह जिले है प्रभावित

प्रदेश में बर्ड फ्लू के लिहाज से जिन जिलों को पॉजिटिव माना गया हैं, उनमें राजधानी जयपुर, दौसा, सवाई माधोपुर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, पाली, सिरोही, कोटा, बारां, झालावाड़, बांसवाड़ा, चित्तौडग़ढ़ व प्रतापगढ़ जिला शामिल है। अब तक जयपुर के 3, दौसा के 7, सवाई माधोपुर व झालावाड़ के 5-5, हनुमानगढ़, सिरोही व जैसलमेर के 2-2, पाली व बांसवाड़ा का 1-1, कोटा के 8, बारां के 4 तथा चित्तौडग़ढ़ के 9 सैम्पल्स में एवियन इन्फ्लूएंजा की पुष्टि हो चुकी हैं।

किन जिलो की रिपोर्ट आना बाकी

भोपाल की रेफरल लैब से अब तक सीकर, अजमेर, भीलवाड़ा, नागौर, टोंक, भरतपुर, करौली, चूरु, श्रीगंगानगर, बाड़मेर जिलों से भेजी गई नमूनों की जांच प्रक्रियाधीन हैं। जबकि, जोधपुर जिले से भेजे गए 12 नमूने नेगेटिव आ चुके हैं।