किसानों का हरियाणा मे प्रवेश, लाठी चार्ज और पानी की बौछारें

Jaipur News । केन्द्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ राजस्थान-हरियाणा सीमा के अलवर जिले से लगते शाहजहांपुर बॉर्डर पर कई दिनों से आंदोलनरत किसान रविवार को भारतीय किसान यूनियन एकता संगठन के बैनर तले ट्रैक्टर ट्रॉलियों के साथ हरियाणा की सीमा में प्रवेश कर गए। ये किसान दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर जाने की तैयारी में हैं। इसको रोकने के लिए पुलिस ने किसानो को रोकने के लिए हल्का लाठी चार्ज किया और पानी की बौछारे भी की ।

टिकरी बॉर्डर से किसान नेता शिंगारा सिंह मान, मनजीत सिंह, जगदेव सिंह, गुरुप्रीत सिंह लुधियाना के नेतृत्व में किसान शाहजहांपुर बॉर्डर पर पहुंचे, जहां हरियाणा प्रशासन की तरफ से बैरिकेटिंग की हुई थी। पुलिस ने पहले तो किसानों को एंट्री से रोक दिया लेकिन बाद में उन्होंने ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के साथ उन्हें हरियाणा सीमा में प्रवेश करने दिया। फिलहाल किसान रेवाड़ी के पास बावल में डेरा डाले हुए हैं।
भारतीय किसान यूनियन एकता से जुड़े 1100-1200 किसान 325 ट्रैक्टर, 30 अतिरिक्त ट्रॉलियों, 40 छोटी गाडिय़ों, 1 टाटा 407 से टिकरी बॉर्डर से शाहजहांपुर-हरियाणा बॉर्डर पर पहुंचे। पीयूसीएल की अध्यक्ष कविता श्रीवास्तव के नेतृत्व में 30 से 35 महिलाएं और राजस्थान महिला कामगार यूनियन जयपुर से 30-35 महिलाएं किसानों के समर्थन में शाहजहांपुर पहुंची और किसानों को समर्थन दिया। श्रीवास्तव ने कहा कि वे 6 जनवरी को अपनी साथी महिलाओं के साथ दिल्ली के लिए निकलेंगीं। तब तक वो शाहजहांपुर में ही आंदोलन करेंगे। जीकेएस किसान संगठन के रणदीप सिंह राजू के नेतृत्व में लगभग ढाई सौ से अधिक किसान 25-30 ट्रैक्टर ट्रॉलियों और निजी वाहनों से संगवाड़ी बावल की तरफ गए।
कृषि कानूनों के विरोध में शाहजहांपुर खेड़ा हरियाणा बॉर्डर पर रविवार दोपहर को सैकड़ों ट्रैक्टरों से हजारों किसान आ गए। इस कारण बॉर्डर पर एक बार फिर से आंदोलन तेज हो गया। यहां पहले से सैकड़ों संगठनों के किसान आंदोलनरत हैं। कुछ दिन पहले कुछ किसान बैरियर तोडक़र दिल्ली की ओर आगे बढ़ गए थे। उसके बाद यहां के आंदोलन में बदलाव आया है।
भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में किसान रेवाड़ी से होते हुए खण्डोडा से शाहजहांपुर आए हैं। अब किसानों के बीच आगे की रणनीति बनने लगी हैं। जानकारों का मानना है कि किसान जल्दी दिल्ली की ओर कूच करने के लिए सरकार पर दबाव बना सकते हैं।
शाहजहांपुर हरियाणा बॉर्डर पर किसानों का दो दिसम्बर से आंदोलन जारी है। 12 दिसम्बर से नेशनल हाइवे पर पड़ाव है। 25 दिसम्बर से हाइवे की दोनों लेन बंद है। इस कारण हाइवे पूरी तरह बंद हैं। किसान नेता रामपाल जाट बीमार होने से अस्पताल में भर्ती हैं। नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल भी यहां पड़ाव पर हैं। उनके साथ भी बड़ी संख्या में कार्यकर्ता व किसान मौजूद हैं।