गहलोत का आज विधायकों को डिनर, क्या सचिन और समर्थक विधायक जाएंगे,असंतुष्टो को मनाने की कवायद

File photo

Jaipur News। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज राजस्थान में ऑल इज वेल की मनसा को लेकर नव वर्ष के उपलक्ष बतौर असंतुष्ट विधायकों को मनाने की कवायद के तहत अपने मुख्यमंत्री आवास पर शाम को भोजन (डिनर) की अच्छी खासी व्यवस्था की है ।

 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज दोपहर में अपने आवास पर मंत्रिमंडल और कांग्रेस के विधायकों की  बैठक बुलाई है इस बैठक में कांग्रेस समर्थित विधायक भी शामिल होंगे इस बैठक के बाद नव वर्ष के उपलक्ष में स्नेहभोज  का भी आयोजन होगा ।

 

बैठक और स्नेहभोज का आयोजन तो मात्र एक बहाना कहें या औपचारिकता कहें लेकिन मूल बात तो यह है कि राजस्थान में लंबे समय से मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर कांग्रेस में तथा कांग्रेस को समर्थन देने वाले विधायकों में असंतोष है वहीं  दूसरी ओर देखा जाए तो युवाओं की धड़कन और राजस्थान में कांग्रेस को सत्ता दिलाने वाले सचिन पायलट द्वारा सरकार में तवज्जो नहीं मिलने पर अपने 19 विधायकों के साथ की गई बगावत और बगावत के बाद घटे राजनीतिक घटनाक्रम आप सबको पता है इस बारे में बहुत कुछ लिखा जा चुका है । इस घटनाक्रम के बाद अब मंत्रिमंडल विस्तार और राजनैतिक नियुक्तियों खो लेकर जो दबाव है उस पर मंथन करना ।

पिज्जा मंगवाना एक महिला को पड़ा भारी,ठग ने ठगे तीस हजार

अब सवाल यह उठता है कि मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर कांग्रेस के अंदर ही अंदर जो असंतोष पनप रहा है कहीं यह संतोष का गुब्बारा फट ना जाए इसी को ध्यान में रखकर आज डिनर का आयोजन किया गया है । डिनर में कांग्रेस को समर्थन देने वाले बसपा के छह विधायक जिन्होंने अपनी पार्टी से बगावत कर कांग्रेस का साथ दिया लेकिन 2 साल हो जाने के बाद भी उन्हें आज तक साथ देने का इनाम नहीं मिल पाया इसको लेकर भी बसपा के सभी छह विधायक गहलोत और कांग्रेस से अच्छे खासे नाराज चल रहे हैं मंत्रिमंडल विस्तार में इन विधायकों को तवज्जो देने  तथा कुछ को राजनीति नियुक्तिया देने की बात पर उनको मनाया जा सकता है ।

राजस्थान सहित 7 राज्यों में फिर बारिश का आसार

मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर भी इस बैठक में मंथन होगा जिसमें जातिगत वोट बैंक सहित सभी पहलूओं  का समावेश करते हुए इस पर चर्चा होगी साथ ही जिन मंत्रियों का परफॉर्मेंस कमजोर रहा है उन मंत्रियों को मंत्री पद से मुक्त करके उनके स्थान पर कुछ नए विधायकों को मंत्री पद से नवाजा जाने और नगर निगम यूआईटी बोर्ड इनमें भी राजनीतिक नियुक्तियां देने पर भी विचार होगा ।

 

सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक क्या आएंगे

 

मुख्यमंत्री द्वारा आहूत किए गए डिनर और कांग्रेसियों के विधायको की बैठक मे सबसे बड़ी बात आज चौंकाने वाली  यह होगी कि क्या इस बैठक और डिनर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के घुर विरोधी सचिन पायलट तथा पायलट के समर्थक विधायक शामिल होंगे या नहीं यह देखने वाली बात होगी अगर आज की इस बैठक में और डिनर में पायलट और उनके समर्थक विधायक शामिल होते हैं तो यह माना जा सकता है कि राजस्थान में ऑल इज वेल की शुरुआत पुनः हो गई है और अगर सचिन और उनके समर्थक विधायक डिनर और बैठक में नहीं आते हैं तो राजस्थान कांग्रेस में और सरकार में ऑल इज वेल नहीं है