एसएमएस के ट्रोमा वार्ड में एक मरीज की मौत पर बवाल, मारपीट करने वाले तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर भेजा जेल

सवाई मानसिंह अस्पताल के अधीक्षक राजेश शर्मा के चैंबर के बाहर प्रदर्शन
Jaipur News। सवाई मानसिंह अस्पताल के ट्रोमा वार्ड में एक मरीज की मौत पर बवाल मच गया। गुस्साए परिजनों ने नर्सिग कर्मचारियों के साथ मारपीट करने के साथ ट्रोमा सेंटर में तोडफ़ोड़ की। सूचना मिलने पर अशोक नगर थाना पुलिस मौके पहुंची और मारपीट करने वाले तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है।
सवाई मानसिंह अस्पताल के ट्रोमा सेंटर में नर्सिंग कर्मचारियों से हुई मारपीट के बाद अस्पताल के तमाम नर्सिंग कर्मचारियों ने सोमवार को कार्य का बहिष्कार कर दिया। मारपीट की घटना के बाद अस्पताल में व्यवस्थाएं चरमरा गईं हैं और मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। करीब पांच घंटे बाद प्रशासन से मिले आश्वासन के बाद नर्सिंगकर्मी काम पर लौटे।
एसएमएस अस्पताल अधीक्षक राजेश शर्मा ने बताया कि एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा वार्ड में एक मरीज का इलाज चल रहा था,जिसकी इलाज के दौरान सोमवार तडके मौत हो गई। मरीज की मौत का पता चलते ही परिजनों का गुस्सा फूट पड़ा। गुस्साएं परिजनों ने अपने परिचित व साथियों के साथ मिलकर ट्रोमा वार्ड में मौजूद नर्सिग कर्मचारियों से बहस करते हुए एक नर्सिग कर्मचारी मुनीराज से मारपीट करना शुरू कर दिया। इसके साथ ही वार्ड में रखे सामान को भी तोडफ़ोड़ किया। अस्पताल के सुरक्षाकर्मियों ने भी बीच-बचाव किया।  इस दौरान नर्सिंगकर्मी के काफी चोटें भी आई। इस घटना के बाद आक्रोशित नर्सिंग कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर दिया। घटना को लेकर नर्सिंग कर्मचारियों में आक्रोश व्याप्त हो गया।
सवाई मानसिंह अस्पताल के अधीक्षक राजेश शर्मा के चैंबर के बाहर प्रदर्शन
इधर कार्य बहिष्कार के बाद नर्सिंग कर्मचारियों के दल ने सवाई मानसिंह अस्पताल के अधीक्षक राजेश शर्मा के चैंबर के बाहर प्रदर्शन किया। नर्सिंग कर्मचारियों की एसोसिएशन के अध्यक्ष प्यारेलाल चौधरी ने बताया कि नर्सिंग कर्मचारी 24 घंटे अस्पताल में सेवाएं देते हैं। इसके बावजूद अस्पताल प्रशासन की ओर से उनकी सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं। उन्होंने कहा कि पहले भी रेजीडेंट्स डॉक्टर्स और कई नर्सिंग कर्मचारियों से मारपीट हो चुकी है, लेकिन बावजूद उसके सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हुए हैं। इसी मुद्दे को लेकर नर्सिंग कर्मचारियों की एक टीम अस्पताल अधीक्षक सहित अन्य अधिकारियों से वार्ता करने पहुंची, जहां उनकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया, तब जाकर कर्मचारी वापस काम पर लौटे।
अशोक नगर थाना पुलिस की एक चौकी खोलने का दिया आश्वासन
नर्सिंग कर्मचारियों की एसोसिएशन के अध्यक्ष प्यारेलाल चौधरी ने बताया कि एसएमएस अस्पताल की तर्ज पर ट्रोमा सेंटर के पास भी अशोक नगर थाना पुलिस की एक चौकी खोलने का आश्वासन दिया हैं। इसके अलावा सुरक्षा गार्डो में भूतपूर्व सैनिकों को लगाने और गार्डों की संख्या बढ़ाने की बात प्रशासन ने कही हैं। इसके साथ ही प्रशासन ने मामले की एफआईआर पुलिस थाने में दर्ज करवाने और दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्यवाही करवाने की भी बात कही हैं।वहीं पुलिस ने कार्रवाई करते हुए नर्सिंग कर्मचारियों से हुई मारपीट व तोडफोड करने क मामले में आरोपित अवतार,आशीष और ​गोविंद को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया,जहां कोर्ट ने तीनों को जेल भेज दिया।
चिकित्साकर्मी, नर्सिंगकर्मी या मेडिकल स्टाफ के साथ बदसलूकी और मारपीट की घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जाएगी:चिकित्सा मंत्री
इधर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश में चिकित्साकर्मी, नर्सिंगकर्मी या किसी भी मेडिकल स्टाफ के साथ बदसलूकी और मारपीट जैसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने इस तरह की घटनाओं के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ नियमानुसार सख्त कार्रवाई करने के सख्त निर्देश भी दिए हैं।
डॉ. शर्मा ने कहा कि राजकीय चिकित्सा संस्थानों में आने वाले मरीजों अथवा उनके परिजनों को किसी भी प्रकार की शिकायत होनेे पर वे चिकित्सा संस्थान के अधीक्षक अथवा उच्चाधिकारियों को अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। अधिकांश हैल्थ वारियर्स पूर्ण समर्पित भाव से मरीजों की सेवा करते हैं, ऎसे में उनके विरूद्ध मापरीट जैसी घटनाएं असहनीय हैं। चिकित्सा मंत्री ने एसएमएस अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा ने बातचीत कर उन्हें इस तरह की घटनाओं की पुरनावृति रोकने के लिए समस्त आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। साथ ही मारपीट की घटनाओं के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ मामले दर्ज करवाने के भी निर्देश दिए।