भीलवाड़ा मे न तो धारा 144 की पालना और न ही जीरो मोबिलिटी की पालना, कैसे लगेगा अकुंश कोरोना पर

Bhilwara news । वस्त्र नगरी भीलवाड़ा में राज्य सरकार द्वारा दिशा निर्देशों के तहत लगाई गई धारा 144 की कहीं भी पालना कराने में जिला प्रशासन असफल साबित हो रहा है तो वही शहर में कोरोना पॉजिटिव आने पर जिला प्रशासन द्वारा लगाई जा रही 0 मोबिलिटी अर्थात कर्फ्यू उस एरिया में कहीं भी कारगर साबित नहीं है यूं कहें तो अतिशयोक्ति नहीं होगी कि जीरो मोबिलिटी मात्र कागजों तक की सीमित है धरातल पर कहीं भी नजर नहीं आ रही है ऐसे में कोरोनावायरस संकरण पर फैलने से कैसे अंकुश लगाया जा सकता है ।

भीलवाड़ा मे न तो धारा 144 की पालना और न ही जीरो मोबिलिटी की पालना, कैसे लगेगा अकुंश कोरोना पर 1

कोरोनावायरस के तेजी से बढ़ते रफ्तार को देखते हुए राजस्थान सरकार ने भीलवाड़ा जिले सहित प्रदेश के 11 जिलों में गत 19 तारीख को धारा 144 लागू करने के दिशा निर्देश सभी जिला कलेक्टर को दिए थे और इस धारा 144 की पालना कराने के भी सख्त निर्देश जारी किए थे लेकिन भीलवाड़ा में शहर में धारा 144 की पालना कहीं नजर नहीं आ रही है ।

आश्चर्य की बात तो यह है कि सरकार द्वारा अंतिम संस्कार में मात्र 20 जनों की स्वीकृति के बाद भी स्थिति यह है कि शहरी क्षेत्र में अंतिम संस्कार में 100 से 200 लोग शामिल हो रहे हैं और प्रशासन व पुलिस जैसे अनभिज्ञ बना हुआ है ऐसे में कोरोना संक्रमण फैलने की सोचना भी बेमानी है ।


शहरी क्षेत्र में ही अंतिम संस्कार में पुरानी परंपरा के अनुसार कहीं डोल निकाला जा रहा है तो कहीं अंतिम संस्कार की शव यात्रा में सौ – सौ जने शामिल हो रहे हैं यह नजारा शहर के मोक्ष धामो पर आसानी से देखा जा सकता है लेकिन इसके बाद भी जिला प्रशासन इस सब पर अंकुश लगाने में असफल साबित हो रहा है यही नहीं मौत के बाद परंपराओं के अनुसार तीसरे दिन उठावने की रस्में तक में लोगों का हुजूम देखा जाता है और यह सब आंखों के सामने होने के बाद भी इस पर प्रशासन द्वारा अंकुश न लगा पाना आश्चर्य की बात है ।

दूकानो पर भीड

शहर के बाजारों में दुकानों पर अच्छी खासी भीड़ देखी जा सकती है सार्वजनिक स्थानों पर भी लोग की भीड रहती हैं फिर ऐसी स्थिति में धारा 144 कि कहां हो रही है पालना प्रशासन व पुलिस की यह अनदेखी कहीं शहर में भारी न पड़ जाए

Slider