शक्करगढ थाना जूझ रहा स्टाफ की कमी से, थाने में नही है महिला पुलिस कर्मी कोन सुने महिलाओं की फ़रियाद

Bhilwara news / सांवरिया सालवी। भीलवाड़ा जिले का शक्करगढ़ थाना कई दिनों से स्टाफ की कमी से जूझ रहा है दूसरी ओर तत्कालीन थाना प्रभारी का लाइन हाजिर होना भी चर्चा का विषय बना हुआ है थाना क्षेत्र में दो पुलिस चौकियो के साथ 11 पंचायतों के 120 गावो का क्षेत्र शामिल है यहा।सिर्फ नाम मात्र के कॉन्स्टेबल ओर चार दीवान सहित एक एसआई की पोस्टिंग है ।

आमजन अपनी समस्या बताने के लिये कई घण्टो तक इंतजार करता है उच्च अधिकारी मोन धारण किये हुए बैठे है ऐसे में पीड़ितों को समय पर न्याय नही मिल पाता है दूसरी ओर जहा जिले में महिला पुलिस अधीक्षक होने के बाद भी जिले के शक्करगढ़ थाने में एक भी महिला पुलिसकर्मी नही होने से पीड़ित महिला फरियाद लेकर थाने पर जाने के बाद भी असहज महशुस करती है ।

जबकि प्रदेश सरकार की ओर से प्रावधान किया गया कि प्रत्येक पुलिस थाने में एक महिला पुलिसकर्मी की नियुक्ति की जाएगी फिर भी थाने में महिलाओं की सुनने वाला कोई नंही है ऐसे में दुष्कर्म ,दहेज, प्रताड़ना के अलावा अन्य महिलाओं से जुड़े अपराधो के बारे में परिवाद दर्ज कराने आने वाली महिलाएं पुरुष अधिकारियों को बेझिझक घटना के बारे में नही बता पाती है ।

इससे आरोपित को राहत मिल जाती है महिला पुलिस अधिकारी होने पर वह अपने मन की बात खुलकर कह सकती है साथ ही उनके दुख दर्द को महिला अधिकारी ही समझ न्याय संगत कार्यवाही करने में अच्छी साबित हो सकती है संविधान ने भले ही महिलाओं को बराबरी का अधिकार दिया है लेकिन आज भी समाज मे महिलाओं को बहुत कुछ झेलना पड़ता है किसी भी तरह की घटना होने पर थाने पर महिला पुलिसकर्मी नही होने से कई बार थाने में जाने के बाद भी वापस लौट आती है।