गहलोत सरकार का दोहरा चरित्र–कर्मचारी महासंघ

File Photo -CM Ashok Gehlot

Bhilwara news । अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ भीलवाड़ा ने राज्य सरकार पर दोहरे चरित्र का आरोप लगाते हुए कहा कि एक और राज्य सरकार ने आर्थिक संकट का बहाना लेते हुए राज्य कर्मचारियों के माह मार्च 2020 का वेतन स्थगित किया हुआ है एवं एक दिन के वेतन काटने का षडयंत्र किया जा रहा है , दूसरी और माननीय विधायकों को सरकारी खर्च पर विदेश यात्राऐं कराने, इनोवा कार खरीदने एवं कोरोना के नाम पर चर्चा के बहाने 3 दिवस विधानसभा चलाकर 13 दिवस का खर्चा राज्य की जनता व कर्मचारियों पर थौपने पर आमदा है।


प्रेस विज्ञप्ति में महासंघ भीलवाड़ा के जिलाध्यक्ष नीरज शर्मा व महामंत्री शिवसिंह चौहान ने राज्य सरकार के उक्त कृत्य की घोर निंदा करते हुए कहा कि यह कोरोना महामारी के इस दौर में न्यायोचित नहीं है। उन्होंने सरकार पर कर्मचारियों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने ना केवल डेढ़ वर्ष से संवादहीनता की स्थिति बना रखी है बल्कि चुनाव पूर्व किये गये वायदों को भी पूरा नहीं कर रही है। उन्होंने राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि महासंघ अब किसी भी एक तरफा कार्यवाही को बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने सरकार से वेतन कटौती के आदेश वापिस लेने एवं स्थगित वेतन जारी करने की मांग करते हुए कहा कि कोरोना काल में कर्मचारियों के द्वारा दिये गये आर्थिक अंशदान के उपयोग को सार्वजनिक करते हुए सबसे ज्यादा आर्थिक सहयोग करने वाले राज्य कर्मचारियों का आभार व्यक्त करें।