बेवाण निकालने की स्वीकृति नहीं मिलने से खफ़ा ग्रामीण, रखा अनिश्चितकालीन बन्द

कोटड़ी (आज़ाद नेब) मेवाड़ के एतिहासिक धर्मस्थल भगवान श्री चारभुजा नाथ के जलझूलन पर बेवाण निकालने की स्वीकृति प्रशासन द्वारा नहीं देने के विरोध में कल से कोटड़ी कस्बे को बन्द करने का एलान समस्त ग्रामवासियों द्वारा चोकी के मन्दिर चौराहे पर लगे काला पत्थर पर लिख कर किया गया है।

ग्रामीणों के द्वारा प्रशासन के खिलाफ कोटड़ी कस्बे के अनिश्चितकालीन बन्द के आह्वाान की चर्चा शुरू हो गई है। यह खबर फैलने के साथ ही प्रशासन हरकत में आ गया। सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक प्रशासन ने कोरोना वायरस के फैलने के डर के चलते यह कदम उठाया है।

गोरतलब है की कस्बे में जलझूलन के मौके पर श्री चारभुजा नाथ का ऐतिहासिक बेवाण निकलता है। कोरोना के चलतें प्रशासन की अनुमति नहीं मिलने से श्रद्धालुओं को आघात लगा है। जिससें उनमें रोष व्याप्त है।