जहरीली शराब कांड– एसडीएम सहित आबकारी 15 कार्मिको पर गिरी गाज

Bharatpur News /राजेन्द्र शर्मा जती । भरतपुर जिले के रूपवास के चकसामरी गाव में जहरीली शराब से 7 जनो की मौत के बाद चेती राज्य सरकार की पुलिस, प्रशासन ब आबकारी विभाग के अधिकारियों ब कर्मचारियों पर गिरी गाज। एसडीएम रूपवास ललित मीणा को किया गया है एपीओ। भरतपुर के जिला आबकारी अधिकारी सहित सहायक आबकारी अधिकारी, एन्फोर्समेंट ऑफिसर राकेश शर्मा, बयाना आबकारी थाने के पेट्रोलिंग ऑफिसर रेवत सिंह राठौड, बयाना आबकारी निरीक्षक योगेंद्र सिंह, रूपवास में आबकारी एन्फोर्समेंट थाने का सम्पूर्ण स्टाफ, पुलिस थाना रूपवास के सहायक उप निरीक्षक मोहन सिंह व दो अन्य पुलिसकर्मी जिनमें बीट इंचार्ज एवं बीट कांस्टेबल शामिल हैं को किया गया है निलम्बित।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शराब दुखांतिका पर व्यक्त किया है गहरा दुख। मृतको के परिजनों को 2-2 लाख रूपये तथा अन्य पीडितो को 50-50 हजार की आर्थिक सहायता मंजूर। भरतपुर के संभागीय आयुक्त मामले की करेंगे जांच।

मृतको के आश्रितो को 2-2 लाख की सहायता

रूपवास पंचायत समिति क्षेत्र के 3 गांवों में शराब दुखान्तिका में सात मृतकों के आश्रितों को मुख्यमंत्री के निर्देश पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री डॉ सुभाष गर्ग ने 2-2 लाख रुपये की सहायता राशि के चेक प्रदान किए तथा विश्वास दिलाया कि सरकार मृतकों के परिवारीजनों का ख्याल रखेगी ,, विधवाओं को पेंशन एवं बच्चों को पालनहार योजना का लाभ दिया जाएगा,, डॉ गर्ग ने चक सामरी, सामरी एवं तेजनगर गांव के 7 मृतकों के निवास पर जाकर आश्रितों को 2-2 लाख रुपये के चेक प्रदान करते हुए दुख व्यक्त किया और कहा कि इस घटना की पूर्ति नहीं हो सकती फिर भी संवेदनशील सरकार ने सभी को सहायता के रूप में 2-2 लाख रुपये भिजवाए हैं ,,उन्होंने परिवारीजनों से आग्रह किया कि वह हिम्मत रखें और बच्चों को नियमित स्कूल भेजें,, उनके साथ बयाना रूपवास के विधायक अमर सिंह, आबकारी आयुक्त जोगाराम, जिला कलेक्टर नथमल डिडेल, एडीजी सुनील कुमार ,आईजी प्रसन्न कुमार, एसपी देवेंद्र सिंह विश्नोई, रूपवास के उपखंड अधिकारी आदि थे ,,इससे पहले डॉ गर्ग ने रूपवास थाने में अधिकारियों की बैठक लेकर क्षेत्र में अवैध शराब विक्रेताओं के खिलाफ सघन अभियान चलाने के निर्देश दिए।