कोरोना की चैन तोड़ने के लिए चिकित्सा एडवाइजरी की आमजन करें पालना, मानसिकता बदलने के साथ ही खान-पान में लाना होगा बदलाव – डाॅ गर्ग

Bharatpur news। तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री डाॅ सुभाष गर्ग ने कहा कि कोरोना से अभी लम्बी लडाई जारी रहेगी इसके लिए हमें मानसिक एवं शारीरिक रूप से तैयार रहना होगा।

डाॅ गर्ग रविवार को सेवर पंचायत समिति परिसर में आयोजित अधिकारियों एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों की संयुक्त बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कोरोना संक्रमण के प्रारम्भिक दौर में ही बेहतर कार्ययोजना तैयार कर ग्रामीण स्तर तक संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए जो माॅडल बनाया जिसकी सराहना राष्ट्रीय स्तर पर राजस्थान माॅडल के रूप में राज्य की पहचान कायम की।

उन्होंने कहा कि अधिकारियों के साथ ही जनप्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संस्थाओं, दानदाताओं एवं भामाशाहों सहित आमजन का पूरा सहयोग टीम भावना के रूप में इस कोरोना महामारी की लडाई में मिला है।

उन्होंने कहा कि इस लडाई को और बेहतर बनाने के लिए एवं कोरोना को हराने के लिए राज्य सरकार द्वारा विशेष कोविड-19 जागरूकता अभियान चलाकर चिकित्सा विभाग द्वारा जारी चिकित्सा एडवाइजरी की शत प्रतिशत पालना की आदत आमजन में डालने के लिए एवं इसको जीवनशैली के रूप में अपनाने के लिए पे्ररित किया जा रहा है। उन्होंने प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों का अह्वान किया कि वे आमजन में कोरोना संक्रमण से बचाव के उपायों में लापरवाही बरतने पर समझाईश के माध्यम से पालना के लिए प्रेरित करें।

उन्होंने कहा कि मौसम के बदलाव के कारण कोरोना संक्रमण के प्रभाव में वृद्धि हो सकती है इसको नियंत्रण करने के लिए आमजन घबराने के बजाय चिकित्सा एडवाइजरी की कठोरता से पालना करें। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी का प्रकोप शहरी क्षेत्रों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रोें में भी बढ रहा है इसके लिए कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के उपायों की जानकारी ग्रामीण क्षेत्रों में जन-जन तक पहुंचानी होगी।

कोविड-19 महामारी के दौरान राज्य सरकार द्वारा आमजन एवं गरीबों की मदद के लिए हरसंभव प्रयास किये गये हैं, राज्य में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि गर्मी के मौसम को दृष्टिगत रखते हुए पेयजल एवं विद्युत की सप्लाई निर्बाध एवं नियमित रूप से की जाये। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा योजना के तहत स्थानीय मांग के अनुरूप कार्य शामिल कर अधिक से अधिक प्रवासी एवं श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध करायें। उन्होंने स्थानीय जनप्रतिनिधियों खासकर सरपंचों से अपील की कि वे अपने क्षेत्र के समस्त कृषकों को फसल बीमा से लाभान्वित कराने के लिए समय पर किश्त जमा करायें।

उन्होंने राज्य सरकार द्वारा टिड्डियों से बचाव के लिए किये जा रहे प्रयासों की जानकारी देते हुए अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे जिले में ऐसे प्रयास करें जिससे टिड्डियों से फसल को कम से कम नुकसान हो।

जिला कलक्टर नथमल डिडेल ने कहा कि कोरोना की इस लडाई में राजकीय अधिकारियों, कार्मिकों के साथ निजी क्षेत्र के प्रतिष्ठिानों, स्वयंसेवी संस्थाएं, सामाजिक संस्थाएं, व्यापारी संगठनों, भामाशाहों, दानदाताओं सहित आमजन ने पूरा सहयोग दिया है। उन्होंने कहा कि हमारा पूरी तरह से यह ध्येय रहा है कि कोरोना महामारी की इस लडाई में जन जागरूकता से बढ़कर कोई हथियार कारगर नहीं है इसके लिए हमने शुरू से ही शहरी क्षेत्रों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी जन जागरूकता लाने के लिए प्रयास किये हैं, लेकिन राज्य सरकार द्वारा 21 जून से 30 जून तक चलाये जा रहे विशेष कोविड-19 जागरूकता अभियान के दौरान सभी क्षेत्रों में अभियान चलाकर कार्यक्रमों का आयोजन के साथ ही होर्डिंग, पोस्टर, बैनर एवं मुख्यमंत्री की अपील का वितरण किया गया है साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में जन जागरूकता लाने के लिए जागरूकता रथ के माध्यम से भी प्रचार किया जा रहा है।

बैठक को लुपिन के अधिशाषी अधिकारी सीताराम गुप्ता ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 जागरूकता अभियान को आगे भी नियमित रूप से जारी रखकर इसे जनआंदोलन की मुहिम बनायें तथा इस अभियान को तब तक जारी रखें जब तक बचाव के उपाय प्रत्येक व्यक्ति की जीवनशैली में शामिल न हों। उन्होेंने मनरेगा योजना के तहत सामुदायिक कार्याें के अतिरिक्त व्यक्तिगत कार्याें पर विशेष जोर दें जिससे रोजगार के साथ ही कृषक भी लाभान्वित हो सकें।

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर डाॅ राजेश गोयल, उपखण्ड अधिकारी भरतपुर संजय गोयल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मूल सिंह राणा ने भी अपने विचार रखें।
बैठक में सेवर विकास अधिकारी देवेन्द्र सिंह, मुख्य ब्लाॅक शिक्षा अधिकारी हरेन्द्र सिंह इन्दौलिया, अतिरिक्त मुख्य ब्लाॅक शिक्षा अधिकारी रामवीर सिंह सहित अन्य विभागों के अधिकारी, क्षेत्र की ग्राम पंचायतों के सरपंच एवं गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

मंत्री ने की जनसुनवाई

बैठक के पश्चात राज्य मंत्री डाॅ गर्ग ने ग्रामीण क्षेत्रों से आये परिवादियों की वेदना सुनकर मौके पर ही निराकरण के निर्देश अधिकारियों को दिये।

कोविड-19 जागरूकता रथों को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना तकनीकी एवं संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 जागरूकता लाने के लिए चिकित्सा विभाग द्वारा तैयार किये गये रथों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।