भीलवाड़ा मे पॉजिटिव पिता की मासूम बच्ची का दफन,एसडीएम ने खुद खोदा खड्डा

भीलवाड़ा ।  जिले के करेड़ा उपखंड क्षेत्र के चावंडिया में शनिवार कोरोना पॉजिटिव मिले युवक की 3, माह की पुत्री की मौत हो जाने और मृतक बच्ची की कोरोना जांच रिपोर्ट पोजिटिव होने की अफवाह फैल जाने से परिजन आक्रोशित हो गए और प्रशासन पर रिपोर्ट छिपाने का आरोप लगाते हुए दाह संस्कार करने से इःकार कर दिया तो वही डर के कारण पडोसियो ने मदद नही की ।

आखिर प्रशासन द्वारा नेगेटिव रिपोर्ट बथाने के बाद आज 14 घंटे बाद मृतक बच्ची का अंतिम संस्कार प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी मे हुआ । मासूम बच्चो को जलाया नही जाकर खड्ठा खोदकर दफन किया जाता है । और सबसे बडी बात यह रही की मासूम बच्ची के दफन के लिए एसडीएम (आरएएस) अधिकारी ने स्वंय खड्डा खोदा।
करेडा के चावंडिया नैवासो युवक की पोजिटिव रिपोर्ट के बाद दो बेटियां व पत्नी को बेमाली चौराहा पर संचालित रिसोर्ट क्वॉरेंटाइन सेंटर पर परिवार के साथ रखे गये जिन्हें जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने पर पत्नी तथा दो लड़कियों को घर पर भिजवाते हुए होम क्वॉरेंटाइन किया गया।

बच्ची का पिता कोरोना पॉजिटिव है। इसका भीलवाड़ा के एमजी अस्पताल में इलाज चल रहा है। चावण्डिया का यह परिवार कुछ दिन पहले मुंबई से आया था।ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर प्रभाकर अवताडे ने बताया बच्ची व अन्य परिजनों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी थी। इसलिए घर भेजा था इससे पहले इन्हें होम क्वॉरेंटाइन किया हुआ था।

बुधवार दिन में मृतका के ताऊ द्वारा बच्ची की तबीयत ज्यादा खराब होने की सूचना पर उसे घर से अस्पताल लाए उपचार के बाद वापस घर पर भिजवा दिया था। जहां बुधवार शाम करीब 6 बजे तीन माह की बालिका यशोदा पुत्री सुरेश कुमावत की मृत्यु हो गई।

इसी दौरान सोशल मीडिया पर मृतक की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट बताते हुए मृत्यु होना बता दिया गया। जिससे परिजनों ने आक्रोशित होते हुए समय पर उपचार नहीं मिलने व आस पड़ोस और मित्रों द्वारा सहयोग नहीं करने से बालिका को तत्काल उपचार नहीं मिला । मृतका का पिता कोरोना पॉजिटिव होने से पड़ोसी भी वहां नहीं आए। जिसके कारण परिजनों ने लड़की का अंतिम संस्कार करने से इनकार  कर दिया ।

जिस पर गुरुवार सुबह मांडल उपखंड अधिकारी महिपाल सिंह, करेड़ा तहसीलदार हरेंद्र सिंह चौहान, थानाधिकारी जगदीश प्रसाद सहित कई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचकर मृतका के बड़े पिता श्यामलाल तथा काका डालचंद सहित परिजनों समाजजनों से वार्ता कर समझाइश के दौरान मृतक बालिका की कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट बताते हुए उपस्थित ग्रामीणो एवं परिजनो को अंतिम संस्कार के लिए राजी करते हुए 14 घंटे बाद गांव के निकट कोठारी नदी में प्रशासनिक अधिकारी एव ग्रामीणों की उपस्थिति में अंतिम संस्कार किया।

इस दौरान उपखंड अधिकारी महिपाल सिंह ने मानवीयता के विशेष संस्कारों को अभिव्यक्त करते हुए स्वयं ने गड्ढा खोदने एवं अंतिम संस्कार करने में सहयोग किया

यह थे उपस्थित

नायब तहसीलदार ओमप्रकाश शर्मा, सरपंच संपत लाल कुमावत, गिरदावर कैलाश चंद्र रेगर, गिरदावर ईश्वर लाल कुमावत, पटवारी भगवत सिंह, विकास अधिकारी अमर सिंह पंवार, कंट्रोल रूम प्रभारी जगदीश चंद्र कुमावत, वार्ड निगरानी कार्मिक कल्याण सिंह चुंडावत सहित कोरोना फाइटर टीम उपस्थित थे।