राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर गरीबों को राशन किट, सब्जियां और फल वितरित किए

महेश जोशी ने सभी राहत सामग्रियों की गाड़ियों को फ्लैग दिखा कर रवाना किया

महेश जोशी ने सभी राहत सामग्रियों की गाड़ियों को फ्लैग दिखा कर रवाना किया

Jaipur News। पूर्व प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर कांग्रेस नेता अवीन सिंह की ओर से गरीब, मजदूर श्रमिकों के लिए राशन किट, सब्जियां और फल वितरित की गई जिसका राजस्थान सरकार में मुख्य सचेतक  महेश जोशी ने फ्लैग दिखा कर सभी राहत सामग्री गाड़ियों को रवाना किया।

महेश जोशी ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी और दूरसंचार क्रांति के जनक आदरणीय श्री राजीव गाँधी देश के विकास, गरीबी उन्मूलन और कुशल मानव संसाधन की अवधारणा के साथ दूरदर्शी राजनीतिज्ञ थे। मैं इस महान व्यक्ति की 29वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।

अवीन सिंह और जो भी व्यक्ति इस कोरोना महामारी में आम जन को राहत के तौर पर कुछ भी कार्य कर रहे है उनके जज्बे और हिम्मत को बनाये रखने के लिए ईश्वर से मैं प्रथाना करता हूँ। अवीन सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी में लॉक डॉउन की घोषणा के साथ हमारे राजस्थान के मुख्यमंत्री आदरणीय श्री अशोक गहलोत जी की पहल से प्रभावित होगा कोई गरीब भूखा ना सोए जिसके पास जितना संसाधन साधन हो गरीबों को उपलब्ध कराएं इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखकर हम लगातार राहत सामग्री के तौर पर गरीब बस्तियों मैं सुबह शाम का भोजन, राशन किट, बच्चों को खाने के लिए बिस्किट्स, मार्क्स और सैनिटाइजर बांट रहे हैं कि 31अक्टूबर 1984 को भारत रत्न राजीव गांधी 40 वर्ष की आयु में भारत के प्रधानमंत्री बने। आज भारत राजीव गाँधी की उपलब्धियों पर खड़ा है।

1984 से 1989 के अपने पांच वर्षों के कार्यकाल में, युवा नेता ने देश को 21वीं सदी में ले जाने के लिए कई उल्लेखनीय प्रयास किए। राजीव गांधी ने पंचायत राज, सूचना संचार प्रौद्योगिकी और शिक्षा सुधार के माध्यम से कल्याणकारी राज्य की अवधारणा के साथ एक आधुनिक भारत की नींव रखी। उन्होंने समावेशी राजनीति और सभी भारतीय समाजों के समावेशी विकास के साथ आधुनिकता की छाप छोड़ी।

राजीव गाँधी ने वोट डालने की उम्र को 21 से घटाकर 18 वर्ष कर दिया और यह वास्तविक अर्थों में जीवंत और अधिक प्रभावकारी लोकतंत्र बनाने के लिए एक ऐतिहासिक कदम था।