कर्फ्यू मे भी बाज नहीं आये बजरी माफिया, इनकों नहीं कोरोना की परवाह

जहाजपुर (आज़ाद नेब) । पूरी दुनिया कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं। सरकार द्वारा लोगों में कोरोना का संक्रमण न फैले इस एतिहाद के लिए कर्फ्यू लगाया जा रहा है। सभी आमजन सरकार के इस फैसले का सम्मान कर रहे हैं। सवाल यह उठता है कि बजरी माफिया नहीं तो सुप्रीम कोर्ट के आदेश को मानते हैं और न सरकार के आदेश को सभी जगह कर्फ्यू लगा होने के बावजूद भी बजरी माफिया धड़ल्ले से अवैध बजरी का परिवहन कर रहे हैं।

इन बजरी माफियाओं को देश व समाज की कोई परवाह नहीं बस अपनी जेबे गर्म करने में लगे हैं। इसके अलावा सवाल यह भी उठता है कि कर्फ्यू के बावजूद भी अवैध बजरी का दोहन नहीं रुकना बहुत बड़ा गंभीर विषय है। यानी सुप्रीम कोर्ट हो सरकार हो या देश में आपातकाल की स्थिति हो बजरी तो चालू रहेगी इनको रोकने वाला या टोकने वाला कोई नहीं। बजरी माफिया ही अपने आप में सर्वे सर्वा है। इन पर लगाम लगाने वाला कोई नहीं।

खबर में जो फोटोग्राफ लगे हैं यह आमल्दा गांव के हैं जो शक्करगढ़ थाना क्षेत्र में आता। दिनदहाड़े हो रहे अवैध बजरी के दोहन को इस परिस्थिति में नहीं रुक पाना चिंता का विषय है। प्रशासन समय रहते इन बजरी माफियाओं पर नकेल नहीं कसी तो आने वाले समय में स्थिति भयानक होगी।