Tonk / विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन सम्पन्न

Tonk news। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, टोंक द्वारा महिला दिवस के अवसर पर दिनांक 3 से 8 मार्च तक आयोजित किए जा रहे विधिक साक्षरता शिविरों के अन्तर्गत 4 को अमरदीप सीनियर सैकण्डरी स्कूल, टोंक में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर अशोक कुमार साहू, अधिवक्ता ने उपस्थित छात्र-छात्राओं को महिला अधिकारों एवं महिलाओं के कल्याण के संचालित की जा रहीे कल्याणकारी योजनाओं के संबंध में जानकारी प्रदान की।

उन्होने रालसा, जयपुर के निर्देशानुसार दिनांक 3 मार्च से 8 मार्च तक आयोजित किये जा रहे महिला दिवस के संबंध में जानकारी प्रदान की। उन्होने बताया कि सभी महिलाओं को अपनें अधिकारों एवं कर्तव्यों के लिये सदैव सजग रहना चाहिए, पूर्व में जब महिलाओ को कमतर माना जाता था तो देश एवं समाज के विकास में महिलाओं की भूमिका बहुत कम थी वर्तमान में आज महिलाऐं हर क्षेत्र में पुरूषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर अपनी भागीदारी दे रहीे है ।

जिससे यह साबित हो गया है कि महिलाओं को यदि सही शिक्षा एवं मार्गदर्शन मिल जाये तो महिलाऐं किसी भी क्षेत्र में अपनी अच्छी भूमिका निभा सकती है।


इस अवसर नालसा द्वारा संचालित तस्करी एवं वाणिज्यिक यौन शोषण पीडितों के लिये विधिक सेवाऐं योजना, आदिवासियों के अधिकारों के संरक्षण और प्रवर्तन के लिये विधिक सेवाऐं योजना, मानसिक रूप से बीमार और मानसिक रूप से विकलांग व्याक्तियों के लिये विधिक सेवाऐं योजना, नालसा आपदा प्रबन्धन योजना के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

विधिक जागरूकता शिविर के दौरान अपने उद्बोधन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा संचालित निःशुल्क विधिक सहायता, पीडित प्रतिकर स्कीम-2011 एवं बाल-विवाह के बारे में जानकारी दी।


अधिवक्ता ने राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) के बारे में भी अहम जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण प्रदूषण और पर्यावरण क्षति के पीड़ितों को राहत और मुआवज़े के लिए एक मंच प्रदान करता है जिसकी देश में कुल पाँच स्थानों पर बैंच है जिनमें हाल ही में ऑनलाईन याचिका शुरू की है जिसके द्वारा ऐसे लोग जो बैंच तक पहुंचने में असमर्थ हैं, वे लोग इसका ऑनलाईन लाभ उठा सकते हैं।

प्रदूषण और पर्यावरण क्षति के पीड़ितों को राहत और मुआवज़े से संबंधित मामलों के संबंध में एनजीटी के वेब अड्रेस हतममदजतपइनदंसण्हवअण्पद पर जाकर अपील की जा सकती है। इसके अलावा उन्होनें असुरक्षित खुले कुए व बोरवेलों के बारे में भी जागरूक किया। इस अवसर पर विद्यालय संचालक चौथमल गढ़वाल ने भी उपस्थित छात्र छात्राओं को महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की।

Slider