Jaipur / स्वर्ण अक्षरों में लिखी एंटिक कुरान को बेचते गिरफ्तार

16 करोड़ में किया बांग्लादेश में सौदा

Jaipur News – स्वर्ण अक्षरों से लिखी एक हजार चौदह पेज की एटिंक कुरान शरीफ को लूटने के बाद बेचने की फिराक में घूम रहे बदमाश को यहां माणक चौक थाना पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार किया है। जयपुर ग्रामीण और भीलवाड़ा में चोरी, डकैती तथा धोखाधड़ी के मामलों में वांछित बदमाश से पुस्तक बरामद की गई है।

बताया जा रहा है कि बदमाश ने बांग्लादेश की एक पार्टी से पुस्तक का सौदा 16 करोड़ रुपए में किया था। पुलिस आरोपी से पूछताछ करने के साथ गिरोह के अन्य बदमाशों की तलाश कर रही है।
डीसीपी (नोर्थ) डॉ. राजीव पचार ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी बनवारी मीणा (29) चौड़ा की ढाणी राहोरी जमवारामगढ़ जयपुर ग्रामीण का रहने वाला है। 

दोपहर एएसआई हरिओम सिंह को सूचना मिली कि भीलवाड़ा से स्वर्ण अक्षरों से लिखी ऐतिहासिक कुरान को लूटने वाला बदमाश सौदा करने बाईजी का खंदा के पास आया है। सूचना पर पुलिस ने कार्रवाई कर बदमाश को दबोचा। उसके कब्जे से एटिंक पुस्तक बरामद की गई।

गिरफ्तार मीणा जयपुर ग्रामीण के चंदबाजी और भीलवाड़ा के सुभाष नगर में चोरी, डकैती तथा धोखाधड़ी के कई प्रकरणों में वांछित चल रहा है। पूर्व में वह जमवारामगढ़ इलाके में ट्रांसफार्मर चोरी के मामले में भी गिरफ्तार हो चुका है।
भीलवाड़ा में सुभाष नगर थाने में योगेन्द्र सिंह मेहता ने सितम्बर 2019 में  रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

सम्राट अकबर की ओर से हमारे पूर्वजों को ऐतिहासिक माण्डलगढ़ किला दान में दिया गया था, जिसमें बहुत सारी ऐतिहासिक वस्तुएं जो अभी भी हमारे पास है। उनमें कुरान शरीफ की किताब जो ऐतिहासिक धार्मिक पुस्तक है, वह स्वर्णाक्षरों में लिखी हुई है औरं बहुमूल्य है।

रिश्तेदार और परिचित के जरिए जयपुर के आमेर तथा जमवारामगढ़ इलाके मेें रहने वाले 5-6 लोगों से पुस्तक का सौदा हुआ था। बातचीत के दौरान उसके साथ मारपीट कर कुरान को लूटकर गाड़ी में बैठकर फरार हो गए।


पूछताछ में आरोपी ने बताया कि स्वर्ण अक्षरों से लिखी ऐतिहासिक कुरान शरीफ का उसने अपने साथियों के साथ मिलकर सौदा भी कर दिया था। बांग्लादेश की एक पार्टी से पुस्तक का सौदा 16 करोड़ रुपए में किया गया था। डील से पूर्व ही माणक चौक थाना पुलिस ने उनके एक साथी खेमा उर्फ खेमचन्द को गिरफ्तार कर लिया।

उसके कब्जे से अवैध हथियार और धोखाधड़ी की नीयत से रखे 4 करोड़ 77 लाख 50 हजार रुपए के नकली नोट बरामद किए गए थे। साथी खेमा के गिरफ्तार होने का पता चलने पर गिरोह के सभी सदस्य पकड़े जाने के भय से फरार हो गए थे।


चन्दबाजी इलाके में गिरफ्तार बनवारी ने अपने साथियों के साथ मिलकर लूट की वारदात को अंजाम दिया था। जयपुर निवासी सोनू शर्मा को सस्ता सोना दिलाने का झांसा देकर चंदवाजी इलाके में ले गए। सोनू का अपहरण कर मारपीट की गई। जिससे 4 लाख रुपए और मोबाइल लूटने के बाद सुनसान जगह पटककर फरार हो गए थे। चंदवाजी में दर्ज प्रकरण में भी बदमाश बनवारी वांछित चल रहा है।