राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पद पर अब जल्द निर्णय संभव

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी मैं  अध्यक्ष के नाम की घोषणा अब जल्द होने की संभावना है। करीब एक माह पहले अशोक परनामी ने प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया था। पार्टी आलाकमान ने उनकी जगह जोधपुर सांसद एवं केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत की ताजपोशी करने का तय कर लिया था। मगर स्थानीय स्तर उनके नाम पर एकराय नहीं बन पाने के कारण गतिरोध पैदा हो गया। कर्नाटक चुनाव को देखते हुए अध्यक्ष की घोषणा को टाल दिया गया था। शनिवार को कर्नाटक में मतदान होने के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि प्रदेशाध्यक्ष की घोषणा अब जल्द होगी।
गत जनवरी में दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर हुए उपचुनावों में सत्तारूढ भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद सोलह अप्रैल को व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए परनामी ने अपना इस्तीफा पार्टी आलाकमान को भिजवा दिया तथा उसके बाद आठरह अप्रैल को आलाकमान ने परनामी को राष्ट्रीय कार्यसमिति में शामिल कर लिया।
गजेन्द्र सिंह शेखावत का नाम पर स्थानीय भाजपा नेताओं के एक धडे और मंत्रियों ने दिल्ली जाकर आपत्ति जता दी। मु यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी शाह से मुलाकात कर इस मुद्दे पर बात की। इसके बाद शाह ने गतिरोध शांत करने के लिए कर्नाटक चुनाव तक के लिए टाल दिया। प्रदेश भाजपा के इतिहास में यह पहला मौका है जब किसी प्रदेशाध्यक्ष का इस्तीफा होने के बाद इतने लंबे समय तक किसी की नियुक्ति नहीं हो पाई है।
पदाधिकारियों की बैठक
कर्नाटक में नतीजों के एक दिन पहले चौदह मई को शाह ने दिल्ली में भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों की बैठक भी बुलाई है। इसमें प्रदेश के राष्ट्रीय पदाधिकारी भी शामिल होंगे। इस बैठक में बिना प्रदेशाध्यक्ष के संगठन महामंत्री भाग लेंगे। अब कर्नाटक के बाद दिस बर तक प्रदेश में भी विधानसभा चुनाव होने हैं ऐसे में पार्टी का शीर्ष नेतृत्व भी अपना पूरा फोकस राजस्थान और मध्यप्रदेश पर ही रखेगा।