हाड़ौती-मेवाड़ में मेघ मेहरबान,प्रतापगढ़ में एक फीट पानी बरसा

जयपुर राज्य में शुरू हुई प्री-मानूसन की बारिश ने मंगलवार रात उदयपुर और कोटा संभाग को तरबतर कर दिया। प्रतापगढ़, उदयपुर, चित्तौडग़ढ़, भीलवाड़ा, बांसवाड़ा और डूंगरपुर में तो जमकर बारिश हुई। प्रतापगढ़ में लगभग एक फीट यानी 280 मिमी पानी बरसा। प्रतापगढ़ में एक दिन में हुई इतनी बारिश के अब तक के लगभग सभी …

हाड़ौती-मेवाड़ में मेघ मेहरबान,प्रतापगढ़ में एक फीट पानी बरसा Read More »

June 20, 2019 7:01 am
जयपुर
राज्य में शुरू हुई प्री-मानूसन की बारिश ने मंगलवार रात उदयपुर और कोटा संभाग को तरबतर कर दिया। प्रतापगढ़, उदयपुर, चित्तौडग़ढ़, भीलवाड़ा, बांसवाड़ा और डूंगरपुर में तो जमकर बारिश हुई। प्रतापगढ़ में लगभग एक फीट यानी 280 मिमी पानी बरसा। प्रतापगढ़ में एक दिन में हुई इतनी बारिश के अब तक के लगभग सभी रिकॉर्ड टूट गए है। प्रतापगढ़ ही नहीं बल्कि उदयपुर, चित्तौडग़ढ़, भीलवाड़ा, बांसवाड़ा और डूंगरपुर में भी बारिश का आंकड़ा 100 मिमी से ऊपर रहा। इनके अलाव कोटा, राजसमंद, सवाईमाधोपुर, सिरोही, टोंक, झालावाड़, बूंदी और बारां में भी तेज बारिश हुई। ये बारिश मंगलवार रात से बुधवार अलसुबह तक हुई। मौसम विभाग ने 48 घंटे प्रदेश के कुछ इलाकों में तेज बारिश की संभावना व्यक्त की है।
प्रतापगढ़, चित्तौडग़ढ़ और उदयपुर क्षेत्र में हुई इस भारी बारिश ने कुछ समय के लिए तो वहां का जनजीवन ही प्रभावित कर दिया। सड़कों पर नदियों की तरह बरसात का पानी बहने लगा और रेलवे अण्डरपास या अन्य निचले इलाके पानी से पूरी तरह भर गए। चित्तौडग़ढ़ में तो  रेलवे अण्डरपास के नीचे पानी भर जाने से निजी बस में उसमें फंस गई। सूचना पर पहुंची पुलिस और राहत बचाव दल ने एक-एक सवारियों को बस से बाहर निकाला। यही हालात प्रतापगढ़ और उदयपुर में रहे। उदयपुर में तो लगभग हर तहसील क्षेत्र में जमकर बारिश हुई।
सिंचाई विभाग और मौसम विभाग से जारी आंकड़ों पर नजर डाले तो उदयपुर में 139, चित्तौडग़ढ़ में 195, कपासन में 114, कोटा में 51, टोंक के टोडीसागर और पीपलू मेें 51, 40, सिरोही के माउंट आबू में 61, सवाई माधोपुर के खण्डार में 53, राजसमंद, नाथद्वारा में 60-60, प्रतापगढ़ के धरियावाद में 125, गाडोला में 117, जाखम डेम में 105, झालावाड़ के भीमसागर में 60, डूंगरपुर के आसपुर में 155, सबला में 160, निथावुआ में 170, सागवाड़ा में 108, बूंदी में 55, भीलवाड़ा के डाबला में 120, रूपाहेली में 115, सरेरी डेम में 107, बांसवाड़ा के जगपुरा में 145, लोहारिया में 128 और अजमेर के सरवर थाना में 61 मिमी बारिश हुई।
भले ही पूर्वी और दक्षिण राजस्थान में प्री-मानसून ने अपना प्रभाव दिखा दिया हो, लेकिन अभी भी उत्तरी व पश्चिमी राजस्थान  में गर्मी से लोगों को राहत नहीं मिल रही। श्रीगंगानगर, चूरू, बीकानेर, जोधपुर और बाड़मेर में बुधवार को भी पारा लगभग 40 या उससे ऊपर रहा। हालांकि कोटा, चित्तौडग़ढ़, अजमेर, बूंदी, सवाईमाधोपुर सहित कई जगह तापमान में बड़ी गिरावट रही।

Prev Post

पुलिस के एक सीआई को पकडने के लिए 12 जगह पर एसीबी के छापे

Next Post

Sachin Pilot to be the CM, Ashok Gehlot to be the Congress President ?

Related Post