झाड़-फूंक के नाम पर देह व्यापार व मादक पदार्थों की बिक्री चरम पर

लखनऊ/ उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में झाड़-फूंक के नाम पर अपनी दुकान चलाने वाले और खुद को तांत्रिक व मजार से जुड़ा बाबा बताने वालों की संख्या वृद्धि हुई है। यह लोग झाड़-फूंक के नाम पर देह व्यापार, नशे का कारोबार जैसे अवैध कारोबार को जोर शोर से कर रहे हैं।

लखनऊ के ठाकुरगंज में काले बाबा के पकड़े जाने के बाद विभिन्न मजारों से जुड़े बाबाओं में खौफ का आलम है। बच्चा पैदा करने के योग्य बनाने के नाम पर महिलाओं को देह व्यापार में धकेलने वाले बाबाओं पर अब लखनऊ पुलिस की तीखी नजर है। लखनऊ के त्रिवेणी नगर, चिनहट और आईआईएम रोड में कुछ बाबा चिन्हित भी किए गए हैं।

लखनऊ की तरह ही प्रदेश के अलग-अलग जनपदों में अवैध कारोबार को जोर देने वाले पाखंडी बाबाओं की भरमार हैं। वाराणसी जैसे धार्मिक स्थल पर ऐसे बाबाओं की भरमार है जो अवैध नशे के कारोबार को तंत्र मंत्र के माध्यम से कर रहे हैं। वाराणसी के जतपुुरा का रहने वाले संतोष नामक व्यक्ति की शिकायत पिछले दिनों वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय वाराणसी में की गई थी, लेकिन उसके विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं हो सकी। उस व्यक्ति पर झाड़-फूंक तंत्र विद्या के नाम पर नशीली दवाएं बेचने का आरोप एक समाजसेवी ने लगाया था। वाराणसी में घाट किनारे रहने वाले बहुत सारे फर्जी तांत्रिकों एवं बाबाओं द्वारा भी इस तरह के नशीले पदार्थ बेचने की शिकायत अक्सर सामने आती रही है।

बागपत और शामली जिले में बाजार से जुड़े बाबाओं द्वारा झाड़-फूंक के नाम पर महिलाओं को नशीले पदार्थ खिलाकर उनके साथ दुष्कर्म की घटनाएं भी सामने आ चुकी हैं। ऐसी घटनाएं सिर्फ दो जिलों में ही नहीं पूरे प्रदेश में कहीं ना कहीं सुनने में आती ही रहती हैं।

विदित है कि तंत्र मंत्र जादू टोना के चक्कर में पड़कर लोग अपने घर परिवार सहित आसपास के क्षेत्र का भी माहौल खराब कर बैठते हैं। इसके विपरीत अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करने वाले तमाम सामाजिक संगठन भी सक्रिय हैं लेकिन वह पूरी तरह सफल नहीं हो पा रहे हैं।