15 साल पहले चुनाव में धर्म और जाति की बात होती थी, अब विकास कीः जेपी नड्डा

पटना, ।  भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने सोमवार को औरंगाबाद में चुनावी रैली को सम्बोधित किया। इसमें उन्होंने सूबे में हुए विकास कार्यों के साथ ही सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। 

नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार विकास का तथा राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) विनाश का पर्याय है। बिहार के चुनाव में अब विकास की बात होती है। उपलब्धियां बताते हैं लेकिन 15 साल पहले जब बिहार में कोई चुनावी सभा करता था तो जाति, धर्म की बात होती थी। समाज को बांटने की बात होती थी। ये बदलाव आया है और यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देन है। मोदी ने जातिवाद और क्षेत्रवाद के नाम पर मतदान की परिपाटी को बंद कराकर विकास और काम के आधार पर वोट मांगने की नई परिपाटी शुरू की है। मोदी ने चुनाव की संस्कृति बदल दी है। राजनीति का चाल-चरित्र बदल दिया है। इसे हमें याद रखना होगा। बिहार के विकास में नया आयाम जोड़ने के लिए नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार जरूरी है।

उन्होंने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने 10 हजार करोड़ शिक्षा, छह हजार करोड़ स्वास्थ्य, दरभंगा एम्स और 11 मेडिकल कॉलेज, तीन साल में बिहार को दिये। औरंगाबाद में मेडिकल कॉलेज खुलने का रास्ता साफ हो गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने देश में 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई। उन्होंने राजग के प्रत्याशी को वोट देने की अपील करते हुए कहा कि राजद का चरित्र अभी तक नहीं बदला है। माले ने उसे हाईजैक कर लिया है। ऐसे में विध्वंस का ये रास्ता कहां जाएगा, कुछ नहीं पता। मैं व्यक्तिगत रूप से बिहार की मिट्टी को पहचानता हूं और इसीलिए कह सकता हूं कि डबल इंजन की सरकार बिहार के लिए जरूरी है।

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व में देश सुरक्षित

नड्डा ने कहा कि कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व में देश सुरक्षित है। एनडीए की सरकार ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण का रास्‍ता साफ किया। जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्छेद 370 हटाया। देश में अब एक संविधान और एक निशान है। मोदी है तो यह सब मुमकिन है। उन्होंने कहा कि बीते छह साल में अरुणाचल प्रदेश से गलवान घाटी तक 4700 किमी लंबी सड़क का निर्माण किया गया, ताकि हमारे सैनिक बिना किसी देरी के जब भी जरूरत हो, सीमा तक पहुंच सकें।

नौकरी छीनने वाले आज नौकरी देने की बात कर रहे हैं

तेजस्वी यादव के 10 लाख नौकरी देने वाले वादे पर जेपी नड्डा ने कहा कि ये जो आज नौकरी की बात कर रहे हैं, ये वही लोग हैं, जिन्होंने बिहार में अराजकता फैलाई थी। सत्ता में रहने पर नौकरी छीनने वाले आज रोजगार देने की बात कर रहे हैं। उस दौर में नौकरी करने वाले नौकरी छोड़कर भाग गए थे। नड्डा ने कहा कि अराजकता की हद ये थी कि गोपालगंज का दलित डीएम पटना आ रहा था। गाड़ी से उतारकर उसकी जान ले ली गई, तब लालू प्रसाद यादव मुख्यमंत्री थे। आज जो पुलिस के डीजी हैं, ये एसपी होते थे। शहाबुद्दीन ने इन्हें गोली मारी थी लेकिन जब नीतीश कुमार की सरकार आई तो शहाबुद्दीन जेल भेजे गए।