मुआवजे के बाद हुआ पोस्टमार्टम, पांच घंटे चली प्रशासन व ग्रामीणों में वार्ता

जहाजपुर (आज़ाद नेब) क्रेशर पर खाना बनाने वाले कार्मिक की अचानक तबीयत होने से उसकी मौत हो गई, मौत पर परिजनों एवं ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग को लेकर तीन घंटे पोस्टमार्टम नहीं करवाया। क्रेशर मालिक द्वारा मुआवजा देने घोषणा के बाद ही हुआ पोस्टमार्टम।

परिजनों एवं ग्रामीणों चिकित्सालय परिसर में मृतक के मुआवजे की मांग को लेकर तकरीबन पांच घंटे तक प्रशासन व मृतक के परिजनों में वार्ता चली तब तक पोस्टमार्टम नहीं हुआ।

जानकारी के मुताबिक मृतक ठेकेदार बन्ना लाल जाट के क्रैशर पर छाछिंया निवासी गोपाल दरोगा खाना बनाने का काम करता था जिसकी विगत रात्रि अचानक तबीयत खराब हुई इसको चिकित्सालय में लाया गया जिसको डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृतक के परिजनों को ठेकेदार बन्ना लाल द्वारा तीन  लाख  की आर्थिक सहायता देने की घोषणा बाद उसका पोस्टमार्टम करवाया गया।

मौके पर उपखंड अधिकारी दामोदर सिंह, प्रधान सीता देवी गुर्जर, तहसीलदार इंद्रजीत सिंह, थानाधिकारी राजकुमार नायक, सब इंस्पेक्टर सरवर खान सहित कांग्रेस के नेता मनीष गुर्जर, देवेंद्र सिंह, डीआर सांवरा धाकड़, पार्षद अनिल उपाध्याय, पूर्व डीआर पृथ्वी राज मीणा, मुकेश जाट, बाबू लाल बेई सहित अन्य लोग मौजूद थे।