Kalyan Satta: राजस्थान के इस जिले में 2 सट्टा किंग ऑनलाइन सट्टा लगाते गिरफ्तार

Kalyan Satta: In Rajasthan, 2 satta kings arrested for betting online

बीकानेर । आईजी रेंज स्पेशल टीम ने गुरुवार देर रात ऑनलाइन सट्टे के (Kalyan Satta King) विरुद्ध जेएनवीसी थाना क्षेत्र के तिलक नगर में एक बड़ी कार्रवाई की है। बल्लभगढ़ निवासी प्रमोद खत्री के मकान पर ऑनलाइन सट्टा (Online Satta Matka) संचालित होने की सूचना पर स्पेशल टीम द्वारा दबिश दी गई।

मौके से दो सटोरियों प्रमोद खत्री तथा वली मोहम्मद को गिरफ्तार किया गया।
बीकानेर रेंज आईजी ओमप्रकाश ने बताया कि जेएनवीसी थाना क्षेत्र में ऑनलाइन सट्टा संचालित होने की सूचना पर उनके कार्यालय की स्पेशल टीम द्वारा गुरुवार रात तिलक नगर स्थित एक मकान में दबिश दी गई।

जिसमें स्थानीय पुलिस का भी सहयोग लिया गया। दबिश के दौरान मकान मालिक प्रमोद खत्री और उसके साथी वली मोहम्मद को गिरफ्तार किया जाकर उनके विरुद्ध आईटी व जुआ एक्ट एवं आईपीसी में मुकदमा दर्ज किया गया है।

मौके से 13 स्मार्टफोन, 17 कीपैड फोन, दो क्रिकेट लाइन बॉक्स मशीन जिसमें 36 लाइनें संचालित थी, एक लैपटॉप, 7 फोन चार्जर और 1530 रुपये नगद मिले। जिन्हें जब्त किया गया। ऑनलाइन सट्टे की विरुद्ध कार्रवाई निरंतर जारी रहेगी।

ऑनलाइन ठगी के दो आरोपी गिरफ्तार: 90500 नगद, 9 मोबाइल, 15 सिम, एटीएम कार्ड, पासबुक-पैन कार्ड की फोटो बरामद

भरतपुर जिला स्पेशल टीम ने शुक्रवार को मुखबिर की सूचना पर कामा कस्बे में दो संदिग्ध युवकों को पकड़ा है। पकड़े गए दोनों युवक भोले भाले लोगों को फंसा कर सस्ते में लुभावने विज्ञापन देकर ऑनलाइन ठगी करते हैं।

आरोपियों के पास से टीम ने ₹90500 नगद, 9 एंड्राइड मोबाइल, 15 सिम कार्ड, एटीएम कार्ड एवं जप्त मोबाइल से 5 व्यक्तियों के आधार कार्ड एवं पैन कार्ड की फोटो बरामद की है।

एसपी श्याम सिंह ने बताया कि शुक्रवार को मुखबिर से मिली सूचना पर जिला स्पेशल टीम प्रभारी सुल्तान सिंह मय टीम द्वारा थाना कामा इलाके के अक्खड़ वाड़ी स्थित चबूतरे पर बैठे दो सन्दिग्ध सगे भाइयों राहुल पुत्र श्यो सिंह (25) एवं तालिम (19) निवासी गांव जिरहेड़ा थाना जुरहरा को पकड़ कर तलाशी ली।

तलाशी में राहुल के पास ₹50000 नगद, 4 मोबाइल, तीन सिम एवं तालीम के पास ₹40500 नगद, 5 मोबाइल एवं 12 सिम व एटीएम कार्ड मिले।

संदिग्ध युवकों के पास मिले मोबाइल को चेक किया तो उसमें लेन-देन का ब्यौरा, दो व्यक्तियों के फर्जी पैन कार्ड और तीन व्यक्तियों के आधार कार्ड की फोटो के साथ कई पेमेंट गेटवे एप एवं सोशल मीडिया ऐप इंस्टॉल मिले।

संतोष जनक जवाब नहीं मिलने पर गहनता से पूछताछ की तो आरोपियों ने एटीएम कार्ड बदलकर व फर्जी सिमों से सोशल मीडिया पर लुभावने विज्ञापन के द्वारा ऑनलाइन ठगी करना बताया।

दोनों ठगों को कामा थाना पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। जिनसे पूछताछ में सामने आया कि सोशल मीडिया पर आकर्षक विज्ञापन देकर ठगी गई रकम पाने के लिए लोगों के आधार कार्ड और पैन कार्ड की फोटो से फर्जी बैंक का अकाउंट और फर्जी सिम से पेमेंट गेटवे एप्स बनाकर ठगी किया करते हैं।