पिता की चिता को अग्नि देना बेटियों को पडा भारी

  समाज ने किया बहिष्क्रत जयपुर। बूंदी जिले की रहने वालीं मीना रेगर और उसके परिवार को पिता का अंतिम संस्कार करने पर समाज से बहिष्कत होने की सजा भुगतनी पड रही है। मीना का मायका बूंदी में है और वो कोटा में अपने ससुराल में रहती हैं. उनके पिता दुर्गाशंकर की मृत्यु जुलाई में हुई …

पिता की चिता को अग्नि देना बेटियों को पडा भारी Read More »

September 21, 2018 10:04 am

 

समाज ने किया बहिष्क्रत

जयपुर। बूंदी जिले की रहने वालीं मीना रेगर और उसके परिवार को पिता का अंतिम संस्कार करने पर समाज से बहिष्कत होने की सजा भुगतनी पड रही है। मीना का मायका बूंदी में है और वो कोटा में अपने ससुराल में रहती हैं. उनके पिता दुर्गाशंकर की मृत्यु जुलाई में हुई थी.

जब मीना और उनकी तीन बहनों ने पिता का अंतिम संस्कार किया तो उन्हें समाज से बेदखल कर दिया गया वहीं उनके रिश्तेदारों ने भी उसे अकेला छोड दिया। जिस दिन पिता का अंतिम संस्कार हुआ उसी दिन परिवार को समाज से बाहर निकाल दिया गया. हालांकि बाद में मीडिया के दवाब में समाज ने उनका सार्वजनिक बहिष्कार वापस ले लिया लेकिन अभी भी समाज के लोग उनके कार्यक्रमों में नहीं आते।

Prev Post

कमजोर सीटों पर रणनीति बदलने लगी कांग्रेस

Next Post

अब देशभर के कालेजों में मनाया जाएगा सर्जिकल स्ट्राइक डे

Related Post