फायरिंग कर टोल बूथ लुटने वाले आरोपित को पकड़ा – रलावता गांव के पास टोल बूथ पर फायरिंग कर 40 हजार रुपए लूट ले गए थे

जयपुर। सीकर में श्रीमाधोपुर इलाके के रलावता गांव के पास शुक्रवार रात टोल बूथ पर फायरिंग कर 40 हजार रुपए लूट जाने वाले आरोपितों को घटना के पांच दिन बाद प्रतापगढ़ जिले में गिर तार किया गया है। नाकाबंदी के दौरान पकड़ में आए चार आरोपितों से प्रतापगढ़ पुलिस ने एक पिस्टल के साथ कैंपर गाड़ी भी बरामद की है। …

फायरिंग कर टोल बूथ लुटने वाले आरोपित को पकड़ा – रलावता गांव के पास टोल बूथ पर फायरिंग कर 40 हजार रुपए लूट ले गए थे Read More »

May 16, 2018 6:24 am

जयपुर। सीकर में श्रीमाधोपुर इलाके के रलावता गांव के पास शुक्रवार रात टोल बूथ पर फायरिंग कर 40 हजार रुपए लूट जाने

वाले आरोपितों को घटना के पांच दिन बाद प्रतापगढ़ जिले में गिर तार किया गया है। नाकाबंदी के दौरान पकड़ में आए चार

आरोपितों से प्रतापगढ़ पुलिस ने एक पिस्टल के साथ कैंपर गाड़ी भी बरामद की है। गिर तारी के बाद आरोपितों को सीकर लाने का प्रयास किया जा रहा है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डा. तेजपाल सिंह ने बताया कि चारों आरोगित यहां फायरिंग व लूट की वारदात को अंजामदेकर फरार हो गए थे। जिनकी जानकारी प्रदेशभर के थानों में भीभिजवाई गई थी। मंगलवार को प्रतापगढ़ में नाकाबंदी के दौरान वहां की पुलिस ने इनसे हथियार बरामद किया तो इन्हें गिर तार कर लिया था। बाद में पता चला कि ये लोग सीकर जिले में फायरिंग व लूट के आरोपित हैं तो इसकी जानकारी यहां की स्थानीय पुलिस को दी गई। रींगस डिप्टी मनस्वी चौधरी के अनुसार आरोपित देवीलाल जो कि, खटुंदरा,खंडेला का रहने वाला है। इसके अलावा ढाणी सामोता की तन

श्रीमाधोपुर के ओमप्रकाश, जयरामपुरा श्रीमाधोपुर के राकेश व लोसल के गणेश्वर निवासी राजूराम को गिर तार किया गया है। उल्लेखनीय है कि इन लोगों ने टोल बूथ के कैबिन में बैठे सेल्समैन पर शुक्रवार की रात फायरिंग कर यहां से 40 हजार रुपए लूट ले गए थे। गोली कैबिन के कांच में छेद करते हुए निकल गई थी और सेल्समैन बच गया था। इसके बाद घटना के दूसरे दिन रविवार को भी आरोपितों ने इसीटोलबूथ पर टोलकर्मियों के आवास के गेट को तोड़ दिया था। और दहशत फैलाने के लिए हवाई फायर कर फरार हो गए थे। आरोपितों की गिर तारी के बाद प्रतापगढ़ जिले की पुलिस क्रेडिट लेने में जुटी रही और सीकर की स्थानीय पुलिस को हथियार व आरोपितों के बारेमें जानकारी देने से कतराती रही। इसके बाद उच्च अधिकारियों की

जानकारी में मामला आया तो उन्होंने हथियार के साथ आरोपितों को पकडऩे के बारे में बताया। हालांकि रींगस व श्रीमाधोपुर पुलिस देर रात प्रतापगढ़ पुलिस की मेल का इंतजार करती रही।

Prev Post

बीज रथ को हरी झड़ी दिखाई

Next Post

खत्म हुआ लुका छुपी का खेल, निलंबित आईएएस निर्मला मीणा ने किया सरेंडर

Related Post