बोंली तहसील के बनास नदी के अवैध बजरी खनन करके स्टॉक करने वालो पर की कार्रवाई

  कृषि भूमि होगी सिवाय चक जारी किए नोटिस ,पीपलवाडा क्षेत्र में भी है बड़ी मात्रा में बजरी स्टॉक बौली। (राजेश मीना) उपखंड क्षेत्र में बजरी के अवैध परिवहन पर पुलिस उपाधीक्षक ग्रामीण की कार्यवाही के बाद अब राजस्व विभाग ने भी बजरी माफियाओं के विरुद्ध कार्रवाई करना शुरू कर दिया है ।इसके लिए बोली …

बोंली तहसील के बनास नदी के अवैध बजरी खनन करके स्टॉक करने वालो पर की कार्रवाई Read More »

October 8, 2018 3:35 pm

 

कृषि भूमि होगी सिवाय चक जारी किए नोटिस ,पीपलवाडा क्षेत्र में भी है बड़ी मात्रा में बजरी स्टॉक

बौली। (राजेश मीना) उपखंड क्षेत्र में बजरी के अवैध परिवहन पर पुलिस उपाधीक्षक ग्रामीण की कार्यवाही के बाद अब राजस्व विभाग ने भी बजरी माफियाओं के विरुद्ध कार्रवाई करना शुरू कर दिया है ।इसके लिए बोली उपखंड अधिकारी विजेंद्र कुमार मीणा ने क्षेत्र के सिसोलाव व कोलाडा निवासी कई खातेदारों को कृषि भूमि पर बजरी का अवैध संग्रह कर व्यावसायिक गतिविधियों को अंजाम देने के संबंध में नोटिस जारी कर जवाब पेश करने के निर्देश दिए हैं ।

 

उपखंड अधिकारी मीणा ने बताया कि निवाई सड़क मार्ग पर कुछ कृषि खातेदारों ने अपने कृषि भूमि पर बजरी का अवैध संग्रहण कर रखा है जो धारा 177 काश्तकारी अधिनियम 1955 के तहत जुर्म है ।

 

कृषि खातेदारों के इस अवैध कार्य को लेकर तहसीलदार महेंद्र कुमार मीणा ने बिना अनुमति के कृषि भूमि का अवैध कार्य में उपयोग लेने के आरोप में उपखंड न्यायालय में वाद पत्र पेश किए जिस पर उन्होंने संबंधित काश्तकारों को नोटिस जारी किए। उन्होंने बताया कि नोटिस का जवाब नहीं मिलने पर खातेदारी भूमि को सिवाय चक घोषित किया जाएगा । जारी किए नोटिसों में कोलाड़ा निवासी फूल्यापुत्र हनाथ बलाई व सिसोलाव निवासी बदरी, सुखदेव, मोती पुत्र भागोता ,रसाल पत्नी पृथ्वीराज ,कश्कन्ता पत्नी रामकेश मीणा ,रंगी पत्नी गोपीचंद ,राम पति पत्नी राम खिलाड़ी ,पांचया पुत्र मांगीलाल, ओमप्रकाश ,रमेश पुत्र हरफूल, रामनिवास ,मौजी राम पुत्रबिशश्नया, मुकेश पुत्र प्रभात, गंदोड़ी बेवा प्रभाता, छीतर पुत्र भारता जाति मीणा ,कन्हैया पुत्र राम चंद्र, रामफूल ,सत्यनारायण राम किशन पुत्र रामदेवा ,बंदी पुत्र चैता, प्रेम देवी पत्नी किशनलाल जाति बेरवा शामिल हैं ।

 

गौरतलब है कि निवाई सड़क मार्ग के कई गांवों में बजरी माफिया से जुड़े लोगों ने कृषि भूमि पर बजरी के अवैध भंडारण कर व्यावसायिक गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है लेकिन पुलिस व प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा इस बारे में कई बार मीडिया में समाचार प्रकाशित होने के बाद गत दिनों पुलिस उपाधीक्षक ने बहुत बड़ी कार्रवाई कर अवैध बजरी के भरे वाहनों को पकड़ा था तो अब राजस्व विभाग ने यह कार्रवाई शुरू की है। क्षेत्र में और भी कई जगह कृषि भूमि पर बजरी के भंडारण बने हुए हैं ग्रामीणों ने उन पर भी कार्रवाई की मांग की है।

इन गांवों में भी है बजरी के अवैध स्टॉक :

पीपलवाडा ग्राम पंचायत के बहनोली मांगरोल गांव में भी बजरिमाफ़ियाओ ने खातेदारी ओर गैर सरकारी जमीन के मुख्य सड़क मार्ग के कनारे बनास नदी की बजरी के स्टॉक करने से आमजन सहित वहां चालको को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बहनोली गांव में हिंदुपुरा मोड़,बागडोली मोड़,मांगरोल,बालाजी के मंदिर के पास,राजकीय उच्च प्राथमिक स्कूल भवन के पीछे था ग्राम पंचायत हिंदुपुरा के जटावती मोड़,डिडवाडी गांव के पास,अटल सेवा केंद्र के सामने,चांदा की झोपड़िया जाने वाले मुख्य सड़क मार्ग पर,पीपलवाडा के नए सड़क मार्ग पर मैनपुरया की ढानी के रोड़, सहित कई जगह पर तीन दर्जन से अधिक जगहों पर लगभग तीन सौ से ज्यादा ट्रको की मात्रा की अवैध बजरी इस समय मुख्य सड़क मार्ग पर पड़ी हुई है। ग्रामीणों ने दुतीय स्तर की करवाई में इन अवैध खनन के स्टोको पर भी कार्रवाई की मांग की है।

पहले चल रहा कॉर्ट में कैश फिर उसी जगह स्टॉक :

पीपलवाड़ा ग्राम पंचायत के बहन औली गांव में 2014 में बजरी माफियाओं के खिलाफ खनिज विभाग द्वारा राज्य स्तर की कार्रवाई की गई थी जिसमें चार बड़े स्टोर को को जप्त किया गया था सीज किए जाने के बाद स्टॉक धारकों ने सरकारी बजरी को खुर्दबुर्ज कर दिया था। इसके बाद सवाई माधोपुर के खनिज विभाग के अधिकारियों ने बोली थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था।

पुलिस द्वारा मामले की जांच की गई। मामला सही पाए जाने पर एक दर्जन से अधिक लोगों को आरोपी बनाया गया और उनको गिरफ्तार करके चालान पेश किया गया था। जिसका बोली कोर्ट में अभी भी मामला चल रहा है, लेकिन बजरी माफियाओं ने कोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए उसी जगह पर वापस बजरी के स्टॉक कर लिए तथा कोर्ट द्वारा प्रतिबंधित अवैध खनन करके किये गए स्टॉक को खुर्दबुर्ज कर दिया गया। खनिज विभाग द्वारा जप्त की गई पुरानी बजरी का नामोनिशान तक नहीं थोड़ा और उसकी जगह अब बनास की नई अवैध बजरी लाकर के माफिया लोग स्टॉक कर रहे है।

Prev Post

सीएम के बैनर पर यह गंदा काम करते देखे गए उनके विश्वस्त

Next Post

मेवात क्षेत्र में ऑन लाईन ठगी करने वाले संगठित गिरोह का खुलासा किया

Related Post