पाकेट रेडियो पर किरन आचार्य बांट रही है खुशियां क्या पढे पूरी खबर

चित्तौड़गढ़। जिले की आशा की किरन पॉडकास्ट से किरन‌ कर रही है कोरोना योद्धाओं को सम्मानित वश्रोताओं को जागरूक वंडर सीमेंट निंबाहेडा में चित्तौड़गढ़ से आशा की किरन चैनल की प्रेजेंटर् डॉ.किरन आचार्य ने कोरोना काल में रचनात्मकता और सामाजिक जागृति हेतु अपनी भूमिका निभाने के लिए पॉडकास्ट को चुना
पॉडकास्ट यानी कि पॉकेट रेडियो भारत में अपेक्षाकृत नई विधा है यह आवाज की संचयिका है जिसे प्रेजेंटर बनाकर पब्लिश करता है श्रोता उस लिंक पर जाकर उसे कभी भी सुन सकते हैं ।

इस पर पब्लिश कार्यक्रमों को बड़ी संख्या में देश-विदेश के लोगों ने सुना है भारत के अलावा अमेरिका ऑस्ट्रेलिया कुवैत जर्मनी स्वीडन यूनाइटेड किंगडम कई देशों में इस पॉडकास्ट को सुना जाता ‌है।डॉ. किरन आचार्य का कहना है कि कोविड-19 लोकडाऊन लगते ही उन्हें एक रचनात्मक आयाम चाहिए था पॉडकास्ट ने उन्हें रचनात्मक दर्शाने का मौका दिया। अब तक कोरोनावायरस में डॉक्टर नर्स कवि चित्रकार जनसंपर्क अधिकारियों शिक्षक कोरोनावायरस यह साक्षात्कार लिए गए उनके अनुभवों को सुनकर उनका उत्साहवर्धन एवं कृतज्ञता प्रकट कर सम्मानित किया गया। इस प्रयास को श्रोताओं ने बहुत सराहा।

इसी प्रकार बच्चों के लिए पंचतंत्र की कहानियों को पाडकास्ट पर रोचक ढंग से प्रस्तुत किया जाता है बच्चे जिसे सुनकर नीतिगत शिक्षा खेल खेल में प्राप्त कर लेते हैं कोविड-19 से उत्पन्न भय चिंता व्यग्रता आदि को शांत करने के लिए आध्यात्मिक ही ओर ले जाने हेतु आशा की किरन के द्वारा श्रीमद् भागवत गीता के हिंदी टीका एवं विवेचना का पठन किया गया कुल मिलाकर इस प्रकार का प्रयास जिसमें हर वर्ग आयु के लोग उसे सुनकर प्रसन्नता शांति महसूस करें।

हिंदी भाषी पॉडकास्ट वैसे भी भारत में अभी कम है, लेकिन आने वाले समय में आवाज की दुनिया में यह बहुत ही महत्वपूर्ण विधा के रूप में जानी पहचानी जाएगी सुनी जाएगी। उन्होंने बताया आप भी गूगल स्पॉटिफाई पर जाकर सुन सकते हैं आशा की किरन पॉडकास्ट।