देश

यस बैंक के सह-संस्थापक कपूर ने सोनिया, प्रियंका व गांधी परिवार पर ED के आरोप पत्र में लगाए गंभीर आरोप,गांधी परिवार की बढ सकती परेशानी ?

नई दिल्ली/ यश बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर ने प्रवर्तन निदेशालय (ED) के समक्ष कांग्रेस की सुप्रीमो सोनिया गांधी , उनकी पुत्री प्रियंका गांधी(वाड्रा) पर दो करोड मे पेंडिंग खरीदने तथा गांधी परिवार को मिले महंगे उपहार खरीदने का दबाब बनाने सहित गंभीर आरोप लगाए जो ED के आरोप पत्र मे शामिल किए गए है । कपूर के गंभीर आरोप गांधी परिवार की परेशानी बढा सकते है ।

यस बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर ने प्रवर्तन निदेशालय (ED: Enforcement Directorate, ईडी) के सामने बड़ा खुलासा किया है। राणा कपूर ने ईडी को बताया है कि उन्हें कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी वाड्रा से एमएफ हुसैन (MF Husain) की एक पेंटिंग खरीदने के लिए मजबूर किया गया था। राणा कपूर ने यह भी बताया कि पेंटिंग बेच कर मिले पैसों का इस्तेमाल गाँधी परिवार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के न्यूयॉर्क में इलाज के लिए किया था।

मुबंई की एक विशेष अदालत में ED द्वारा दायर आरोप पत्र में यह बात सामने आई है। ED के आरोप पत्र मे यह भी बात सामने की कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने ‘यस बैंक’ के संस्थापक राणा कपूर को जो पेंटिंग बेची थी, उस पूरी प्रक्रिया में पूर्व केंद्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा ने बिचौलिए की भूमिका निभाई थी। इस बात का खुलासा भी खुद उन्होंने ही किया है।

लालच और धमकी भी दी गई

आरोप पत्र मे राणा कपूर ने ईडी को यह भी बताया कि उन्हें पूर्व पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा ने कहा था कि एमएफ हुसैन की पेंटिंग खरीदने से इनकार करने पर गाँधी परिवार के साथ उनके संबंधों में खटास आ सकती है। संबंधों के अलावा एक धमकी ‘सम्मान’ की भी दी गई थी। इनकार करने पर ‘पद्म भूषण पुरस्कार नहीं मिलेगा’ – राणा कपूर को यह भी कहा गया था।

2 करोड मे खरीदी थी पेंडिग

यस बैंक के सह-संस्थापक राणा कपूर ने पेंटिंग के लिए 2 करोड़ रुपए के चेक का भुगतान किया था। कपूर ने बताया कि मिलिंद देवड़ा ने बाद में उन्हें बताया था कि पेंटिंग से मिले पैसों का इस्तेमाल गाँधी परिवार ने न्यूयॉर्क में सोनिया गाँधी के इलाज के लिए किया था।
राणा कपूर ने ईडी को यह भी बताया कि सोनिया गाँधी के करीबी अहमद पटेल ने उनसे कहा था कि सोनिया के इलाज के लिए सही समय पर गाँधी परिवार की मदद करके अच्छा काम किया है। इसलिए ‘पद्म भूषण’ पुरस्कार के लिए मेरे नाम पर विचार किया जाएगा।

विश्वस्त सूत्रों ने बताया था कि मिलिंद देवड़ा और राणा कपूर के बीच इस पेंटिंग की बिक्री को लेकर तेज़त के माध्यम से बातचीत भी हुई थी। मिलिंद अपने ब्लैकबेरी के फोन से राणा से बात किया करते थे। यहाँ वो राणा कपूर को ‘अंकल’ कह कर सम्बोधित करते हैं। सूत्रों की मानें तो मिलिंद देवड़ा ने मई 29, 2010 को राणा कपूर को भेजे मैसेज में लिखा था:
“राणा अंकल, मई 28, 2010 को मुझे आपका पत्र मिला और मैंने उसे प्रियंका गाँधी को भेज दिया है। हालाँकि, अभी तो उनके या उनके परिवार के साथ अपनी मुलाक़ात नहीं हो सकेगी लेकिन कुछ दिनों बाद मैं इसके लिए पूरा प्रबंध करा दूँगा। पेंटिंग के पेमेंट चेक के रूप में प्रियंका और सोनिया अगले ही सप्ताह चाहती हैं। मेरे पिता को भी इस बारे में बताया गया है और उन्होंने भी आपसे संपर्क करने की असफल कोशिश की थी। दुर्भाग्य से चीजें काफ़ी देरी से हो रही हैं। आप इस मैसेज का रिप्लाई करें और बताएँ कि आप कब तक चेक दे रहे हैं। मुझे मेरे पिता को इस बारे में तुरंत बताना है। आप मैसेज देख रहे हैं तो जल्द रिप्लाई करें।”

ED ने आरोप पत्र मे यह भी कहा

प्रवर्तन निदेशालय ने अपने दूसरे पूरक आरोप पत्र में यह भी कहा है कि वह यस बैंक के साथ पूर्व-डीएचएफएल से जुड़े 5050 करोड़ रुपए के अवैध लेनदेन और मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जाँच भी कर रही है। इस मामले में यस बैंक के सह-संस्थापक, उनका परिवार, दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएचएफएल) के प्रमोटर कपिल और धीरज वधावन के प्रमोटर भी सह-आरोपित हैं।

विदित है कि ईडी ने दो साल पहले मुंबई की अदालत को बताया था कि ‘यस बैंक’ ने डीएचएफएल के 3700 करोड़ रुपए के मूल्य से भी अधिक के डिबेंचर ख़रीदे थे। डीबीएचएल ने डोलीट अर्बन वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड को 600 करोड़ का लोन दिया था। दिलचस्प यह कि इस कम्पनी में राणा कपूर की बेटियाँ बतौर डायरेक्टर कार्यरत थीं। यस बैंक ने बिना पर्याप्त कोलैटरल के उक्त लोन दे दिया था और नियमों की अनदेखी की गई थी। दोनों कंपनियों के करार में 4300 करोड़ रुपए की गड़बड़ी सामने आई थी। इसके बाद कोर्ट ने राणा कपूर को ईडी की कस्टडी में भेज दिया था। इसके अलावा कपूर परिवार के पास ED को 44 महँगी पेंटिंग्स मिली थी। इनमें से कई राजनेताओं से ख़रीदी गई थी।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम