ट्रैक्टर परेड में हिंसा को मायावती ने बताया अति दुर्भाग्यपूर्ण, अखिलेश बोले भाजपा सरकार ही कसूरवार

लखनऊ । गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा को लेकर सियासत शुरू हो गई है। किसान आन्दोलन की अगुवाई कर रहे नेता हिंसा करने वालों से जहां किनारा कर रहे हैं। वहीं विपक्षी दल हिंसा की आड़ में सरकार को घेरने में जुटे हैं। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो …

ट्रैक्टर परेड में हिंसा को मायावती ने बताया अति दुर्भाग्यपूर्ण, अखिलेश बोले भाजपा सरकार ही कसूरवार Read More »

January 27, 2021 12:03 pm

लखनऊ । गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा को लेकर सियासत शुरू हो गई है। किसान आन्दोलन की अगुवाई कर रहे नेता हिंसा करने वालों से जहां किनारा कर रहे हैं। वहीं विपक्षी दल हिंसा की आड़ में सरकार को घेरने में जुटे हैं।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सुप्रीमो मायावती ने हिंसा को अति दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने केन्द्र सरकार से इसे अति गम्भीरता से लेने के साथ तीनों नये कृषि वापस लेने की पुनः अपील की है। इसी तरह समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी हालात के लिए भाजपा सरकार को कसूरवार ठहराते हुए कृषि कानून तत्काल रद्द करने की मांग की है।

मायावती ने बुधवार को कहा कि देश की राजधानी दिल्ली में कल गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की हुई ट्रैक्टर रैली के दौरान जो कुछ भी हुआ, वह कतई भी नहीं होना चाहिए था। यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण तथा केन्द्र की सरकार को भी इसे अति-गंभीरता से ज़रूर लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही, बसपा की केन्द्र सरकार से पुनः यह अपील है कि वह तीनों कृषि कानूनों को अविलम्ब वापस लेकर किसानों के लम्बे अरसे से चल रहे आन्दोलन को खत्म करे ताकि आगे फिर से ऐसी कोई अनहोनी घटना कहीं भी न हो सके।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने जिस प्रकार किसानों को निरन्तर उपेक्षित, अपमानित व आरोपित किया है, उसने किसानों के रोष को आक्रोश में बदलने में निर्णायक भूमिका निभायी है। अब जो हालात बने हैं, उनके लिए भाजपा ही कसूरवार है। उन्होंने कहा कि भाजपा अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी मानते हुए कृषि-क़ानून तुरंत रद्द करे।

उल्लेखनीय है कि तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर किसान पिछले दो महीने से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड की घोषण की थी। दिल्ली पुलिस के साथ बैठक के बाद किसानों को परेड की अनुमति दी गई थी। इस दौरान किसानों ने वादा किया था कि परेड दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड के पास नहीं जाएगी, लेकिन मंगलवार को प्रदर्शनकारी तय रूट को छोड़ दिल्ली के मध्य तक घुस आए और जमकर तोड़फोड़ की। बैरिकेड तोड़ते हुए ये लोग लाल किले तक पहुंच गए और हिंसा की।

इस दौरान रोकने की कोशिश कर रहे पुलिसकर्मियों पर पथराव करने के साथ रॉड और तलवारों से हमला किया। अलग-अलग जगहों पर उपद्रव में कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं और कुछ लोगों की हालत गम्भीर है। पुलिस ने मामले में एफआइआर दर्ज की है।

Prev Post

दो हमलावरों ने युवक को गोलियों से भून कर उतारा मौत के घाट

Next Post

उग्र किसानों पर पुलिस ने दर्ज की 22 एफआईआर, 250 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल

Related Post

Latest News

कोतवाली पुलिस कहिन रिपोर्ट दर्ज होने के बाद बता दिया जाएगा, बुजुर्ग महिला से लूट का प्रयास विफल ,लोगों ने युवक को पकड़ा ,VIDEO
कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष खड़गे या सिंह,तस्वीर 8 को होगी साफ,G-23 नेता मिले गहलोत से, रौचक होगा चुनाव 
राजस्थान में आलाकमान की धमकी बेअसर, गहलोत गुट के नेता ने फिर..

Trending News

कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान

Top News

कोतवाली पुलिस कहिन रिपोर्ट दर्ज होने के बाद बता दिया जाएगा, बुजुर्ग महिला से लूट का प्रयास विफल ,लोगों ने युवक को पकड़ा ,VIDEO
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
भीलवाड़ा शहर में 2 साल बाद 5 अक्टूबर को निकलेगा विशाल पथ संचलन
राजस्थान शिक्षा विभाग- राजस्थान में सरकारी स्कूलों का समय परिवर्तन 15 से बदलेगा
सफाई कर्मचारी भर्ती मामला - अलवर नगर परिषद व सरकार को हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर नोटिस
कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष खड़गे या सिंह,तस्वीर 8 को होगी साफ,G-23 नेता मिले गहलोत से, रौचक होगा चुनाव 
राजस्थान में आलाकमान की धमकी बेअसर, गहलोत गुट के नेता ने फिर..
गहलोत को CM हटाते ही राजस्थान में कांग्रेस खंड-खंड बिखर ...
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान