तीन हजार लावारिसों की अस्थियों को मिली मां गंगा की गोद

हरिद्वार । प्रकाश पुंज सेवा समिति के तत्वावधान में शुक्रवार को अमावस्या के अवसर पर वैदिक विधिविधान व मंत्रोच्चार के साथ कनखल स्थित सती घाट पर दिल्ली के विभिन्न श्मशान घाट से लाए गए तीन हजार अस्थि कलशों का एक साथ विसर्जन किया गया।अस्थि विसर्जन के बाद समिति के पदाधिकारियों व सदस्यों ने मृतकों की …

तीन हजार लावारिसों की अस्थियों को मिली मां गंगा की गोद Read More »

October 16, 2020 6:06 pm

हरिद्वार । प्रकाश पुंज सेवा समिति के तत्वावधान में शुक्रवार को अमावस्या के अवसर पर वैदिक विधिविधान व मंत्रोच्चार के साथ कनखल स्थित सती घाट पर दिल्ली के विभिन्न श्मशान घाट से लाए गए तीन हजार अस्थि कलशों का एक साथ विसर्जन किया गया।अस्थि विसर्जन के बाद समिति के पदाधिकारियों व सदस्यों ने मृतकों की आत्मा शांति के लिए मां गंगा से प्रार्थना की। 


समिति के अध्यक्ष पंडित विशाल शास्त्री ने बताया कि समिति पिछले 10 साल से लावारिस शवों का अंतिम संस्कार और अस्थि विसर्जन कर रही है। उन्होंने बताया कि दिल्ली में तीन सौ श्मशान हैं। समिति के पदाधिकारी व सदस्य सभी श्मशान से लावारिस मृतकों की अस्थियां एकत्र करते हैं, जिन्हें प्रत्येक अमावस्या को हरिद्वार लाकर गंगा में विसर्जित किया जाता है। इसके अलावा लावारिस शवों का अंतिम संस्कार भी कराया जाता है।

अब तक लाखों लावारिस व्यक्तियों की अस्थियां गंगा में प्रवाहित की जा चुकी हैं। पंडित शास्त्री ने बताया कि वैदिक सनातन धर्म में जीवन के प्रत्येक चरण के लिए संस्कार तय किए गए हैं। अंतिम संस्कार भी उनमें से एक है। हिन्दु धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मृत्यु के पश्चात विधिविधान के साथ शव का अंतिम संस्कार व गंगा में अस्थि प्रवाह नहीं किया जाए तो मृतक को मोक्ष नहीं मिलता है।संरक्षक महामण्डलेश्वर सोमेश्वरानन्द गिरि महाराज व स्वामी अखण्डानन्द महाराज की प्रेरणा से समिति ने लावारिस शवों का अंतिम संस्कार व अस्थि विसर्जन का बीड़ा उठाया। इसमें समिति के पदाधिकारियों व सदस्यों के अलावा आम लोगों का सहयोग भी मिलता है। 

आशीष बालियान ने कहा कि दिल्ली में कहीं भी मिलने वाले अज्ञात शवों के अलावा ऐसे लोग जिनका कोई वारिस नहीं है, उनकी मौत होने की सूचना मिलने पर समिति अपने खर्च पर अंतिम संस्कार कराती है और अस्थियों को हरिद्वार लाकर मां गंगा की गोद में विसर्जित किया जाता है। उन्होंने कहा कि समिति के अध्यक्ष पंडित विशाल शास्त्री के नेतृत्व में चल रहे इस कार्य को निरंतर जारी रखा जाएगा। इस मौके पर पंडित विनोद शर्मा, पंडित भरत शर्मा, राजेंद्र प्रसाद बंसल, शशी चौहान, दीपक, अजय शर्मा, राजकुमार आदि सहित कई लोग मौजूद रहे। 

Prev Post

अभिनेता रणदीप हुड्डा ने लिया झालाना लेपर्ड रिजर्व में साइटिंग का लुत्फ

Next Post

अच्छी ख़बर /वैट 40(ई) प्रपत्र जमा कराने की अंतिम तिथि बढ़ाई

Related Post

Latest News

राजस्थान में बड़ा सियासी घटनाक्रम, गहलोत समर्थक 92 विधायकों ने दिया इस्तीफा 
बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

राजस्थान में बड़ा सियासी घटनाक्रम, गहलोत समर्थक 92 विधायकों ने दिया इस्तीफा 
बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा