सूने गांवों को आबाद कर रहा कोरोना

फर्रुखाबाद / चन्द्रपाल सिंह सेंगर (हि.स.)। कोरोनावायरस की वजह से खंडहर में तब्दील हो रहे गांव एक बार फिर रोशन हो गए हैं। शहर कमाने गए लोगों के कोरोना वायरस की वजह से गांव वापस लौटने से जहां गांव फिर आबाद हो गए हैं, वही इन परदेसी बाबुओ ने अपने घरों को चमका कर शहर से …

सूने गांवों को आबाद कर रहा कोरोना Read More »

October 30, 2020 6:16 pm
फर्रुखाबाद / चन्द्रपाल सिंह सेंगर (हि.स.)। कोरोनावायरस की वजह से खंडहर में तब्दील हो रहे गांव एक बार फिर रोशन हो गए हैं। शहर कमाने गए लोगों के कोरोना वायरस की वजह से गांव वापस लौटने से जहां गांव फिर आबाद हो गए हैं, वही इन परदेसी बाबुओ ने अपने घरों को चमका कर शहर से बेहतर बना दिया है।
मौजूदा समय में देखा जाए तो गांव में अब कोई कच्चा मकान नजर नहीं आ रहा है। कोरोना काल में गांव के सभी मकान पक्के हो गए हैं। कोरोना काल में जहां गांवों में फिर रौनक लौट आई है, वही ईट भट्टा मालिकों की बिक्री जमकर हुई है। बानगी के तौर पर ग्राम सभा कमालपुर को ही ले लिया जाए तो यहां के लगभग डेढ़ हजार लोग पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, कानपुर महानगरों में नौकरी करने चले गए थे। गांव से इन युवाओं को लगाव पूरी तरह से खत्म हो गया था और यह गांव को भूल कर शहरी बाबू बन गए थे। शहर कमाने गए पेशकार सिंह सहित सैकड़ों का कहना है कि जब जब मौत सामने नाची तो उन्हें अपना गांव याद आया। संक्रमण के भय से सभी गांव वाले शहर से अपने अपने घरों को वापस लौट आए।
उन्होंने घर लौटने के बाद यहां समय व्यतीत नहीं किया। वह अपने मकानों को चमकाने में लग गए। शहर से वह जो पैसा कमा कर लाए थे उन्होंने अपने टूटे-फूटे मकान में लगाकर उन्हें रोशन कर दिया। आज जिले में कोई गांव ऐसा नहीं है जिसमें कच्चा मकान दिखाई दे रहा हो। कोरोना काल में आलू की बड़ी कीमत और शहरी बाबुओं के वापस गांव आने से सभी ने अपने अपने घरों को चमका दिया है। वैसे युवा गांव से शहर के लिए पलायन कर रहा था, लेकिन अब शहर गया युवा अपने गांव लौट आया है और खेती-बाड़ी में फिर से लग गया है। गांव के अवधेश सिंह, बृजेश सहित सैकड़ों लोग बताते हैं कि गांव से बढ़िया जीवन कहीं का नहीं है। जिस तरह से उन्होंने कई दशक शहर में नौकरी करने में बिताए, यदि इतना समय अपने खेतों में खर्च किया होता तो आज वह मालामाल होते। यही सोचकर वह अब अपनी खेती बाड़ी में जुट गए हैं और गांव के मकानों को उन्होंने शहर से बढ़कर चमका दिया है।
इस संबंध में ग्राम प्रधान रघुवीर राठौर का कहना है कि उनके गांव में आज एक भी मकान कच्चा नहीं है। कोरोना काल से पहले 30 फीसदी मकान कच्चे थे तथा युवाओं के शहर चले जाने से 20 फीसदी मकान खंडहर में तब्दील हो रहे थे। जो आज फिर आबाद हो गए हैं। कोरोना ने गैर आबाद गावो को फिर आवाद कर दिया है। निश्चित ही कोरोना से भारी जन हानि हुई है, लेकिन कोरोना ने खंडहर में तब्दील हुए गांवों को रोशन कर गया है। आज गांव में में फिर रौनक नजर आने लगी है। कभी सूने पड़े रहने वाले गांव फिर आबाद हो गए हैं। तीज त्यौहार पर गांवों में रौनक लौट आई है। सबसे बड़ी बात यह है कि कोरोनावायरस का असर भी ग्रामों में कम हो रहा है। गांव के लोग सामाजिक दूरी का पूरी तरह से ध्यान रख रहे हैं इस वजह से कोरोना सूने पड़े मकानों को फिर आबाद होने का मौका दे रहा है।

Prev Post

बेटे ने सौतेली मां समेत पिता को उतारा मौत के घाट, मां पर था गर्भवती होेने का शक

Next Post

चीन के मसले पर राहुल फिर हमलावर, पूछा- किसे मिले अच्छे दिन

Related Post

Latest News

कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष खड़गे या सिंह,तस्वीर 8 को होगी साफ,G-23 नेता मिले गहलोत से, रौचक होगा चुनाव 
राजस्थान में आलाकमान की धमकी बेअसर, गहलोत गुट के नेता ने फिर..
गहलोत को CM हटाते ही राजस्थान में कांग्रेस खंड-खंड बिखर ...

Trending News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 

Top News

कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष खड़गे या सिंह,तस्वीर 8 को होगी साफ,G-23 नेता मिले गहलोत से, रौचक होगा चुनाव 
राजस्थान में आलाकमान की धमकी बेअसर, गहलोत गुट के नेता ने फिर..
गहलोत को CM हटाते ही राजस्थान में कांग्रेस खंड-खंड बिखर ...
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन..