Forest Guard Direct Recruitment Exam on 12th and 13th November
देश

स्कूल,कालेज और कोंचिग इस माह तक नही खुलेंगे ,कब व क्यों पढ़े 

नई दिल्ली/ कोरोना महामारी के प्रारंभ काल पहली लहर अप्रैल 2019 से देशभर मे स्कूले, कालेज, कोंचिग संस्थान बंद है और पहली लहर के कुछ हद तक थमने के बाद कुछ राज्यो मे स्कूल, कालेज और कोंचिग संस्थान खुलने लगे थे तथा यहा पढ्ई शुरू होने लगी तभी भयावह और जानलेवा दूसरी लहर ने फिर से स्कूल कालेज और कोंचिग संस्थानो को बंद करा दिया अब दूसरी लहर कुछ कम जरूरी पडी है लेकिन खतरनाक तीसरी लहर की आहट को लेकर सरकारों मे स्कूल कालेज कोंचिग संस्थान खोले जाएं या नही इसको लेकर असमजस बै वही अभिभावको और छात्र-छात्राओ मे मे भी सशंय व खौफ है । अब स्कूल कालेज और कोंचिग संस्थान कब खुलेंगे आइए पढे पूरी खबर

केन्द्र सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक दवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला के भी भारत के औषधी महानियंत्रण के सामने अपने कोविड-19 रोधी टीके (जायकोव -डी) के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी के लिए आवेदन किया है । कंपनी का दावा है। की यह वयस्क और बच्चो दोनो को दिया जा सकता है ।

उधर एम्स के डायरेक्टर डॉक्टर गुलेरिया अगर फाइटर के टीके को मंजूरी मिल गई तो यह भी बच्चों के लिए एक विकल्प हो सकता है तथा अगर जाइड्स के टीके को मंजूरी मिलती है तो यह भी एक और विकल्प होगा।

डॉक्टर गुलरिया के अनुसार भारत बायोटेक के टीके को वैक्सीन के 2 से 18 साल के बच्चों पर किए गए दूसरे तीसरे चरण के परीक्षण के आंकड़ों के सितंबर तक आने की उम्मीद है और ड्रग कंट्रोल की मंजूरी के बाद भारत में उस समय के आसपास बच्चों के लिए टीके उपलब्ध हो सकते हैं।

कब तक खुल सकते स्कूल कालेज  संस्थान

डॉक्टर गुलेरिया के बयान के अनुसार यह आकलन किया जा सकता है कि देशभर में स्कूल कॉलेज और कोचिंग संस्थान अक्टूबर माह के बाद ही खुलने की संभावनाएं कुछ हद तक बनती है । लेकिन अगर बच्चों का टीकाकरण अक्टूबर तक भी शुरू नहीं हुआ तो फिर इस साल स्कूल एंड कॉलेज और कोचिंग संस्थान नहीं खुल सकते ।

उसी और सरकार ने चेतावनी दी है कि कोविड-19 ने अब तक भले ही बच्चों को बड़े पैमाने पर प्रभावित नहीं किया हो लेकिन अगर वायरस के व्यवहार या महामारी की गति में बदलाव आता है तो यह बढ़ सकता है और ऐसी किसी स्थिति से निपटने के लिए तैयारियां की जा रही है।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम