श्रीलंका में बुर्का पर रोक और मदरसों को बंद करने पर भड़का पाकिस्तान

कोलंबो। श्रीलंका में बुर्का पर प्रतिबंध और एक हजार मदरसो को बंद करने की सिफारिश पाकिस्तान को नागवार लगी। उसने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए इसे विभाजनकारी बताया है। श्रीलंका में पाकिस्तान के उच्चायुक्त ने बुर्का पर प्रतिबंध लगाने की निंदा करते हुए कहा है कि सुरक्षा के नाम पर इस तरह के कदम से मुसलमानों की भावना आहत होगी।

श्रीलंका कैबिनेट द्वारा बुर्के पर प्रतिबंध के फैसले के बाद जनसुरक्षा मामलों के मंत्री सरथ वीरसेखरा की सिफारिश के बाद पाकिस्तान का यह बयान आया है। श्रीलंका में बुर्का ही नहीं चेहरे को ढंकने वाले सभी वस्त्रों पर प्रतिबंध की सिफारिश की गई है। वीरसेखरा ने यह सिफारिश शुक्रवार को की थी। शनिवार को वीरसेखरा ने कहा कि यह सिफारिश राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर की गई है। उन्हे बुर्का पहनने को कट्टरता बढ़ने की निशानी बताया था।

वीरसेखरा ने कहा था कि हाल के कुछ महीनों में देश में एक हजार से ज्यादा मदरसे खुले हैं। ये भी कट्टरता बढ़ाने में जुटे हैं। सरकार इन्हें भी बंद कराएगी।

पाकिस्तानी उच्चायुक्त ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते इस समय आर्थिक मुश्किलों का दौर चल रहा है। श्रीलंका अपनी छवि को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अन्य तरह की चुनौतियों का सामना भी कर रहा है। ऐसे में सुरक्षा के नाम पर श्रीलंका का ऐसे विभाजनकारी कदम उठाना उसके लिए और ज्यादा आर्थिक मुश्किलें खड़ी कर सकता है।