Raid on contract teacher, property worth crores found, owner of 27 colleges,
देश

शिक्षा विभाग– संविदा शिक्षक के यहां छापा,करोड़ों की संपत्ति मिली ,27 कालेज का मालिक,अगले साल राजस्थान में MLA का लड़ना था चुनाव

भोपाल/ आर्थिक अपराध अन्वेषण प्रकोष्ठ ईओडब्ल्यू(EOW) ने आज आय से अधिक संपत्ति के मामले में कार्यवाही करते हुए गवालियर में संविदा पर लगे सहायक शिक्षक के यहां की गई छापे की कार्रवाई में प्रारंभिक जांच पड़ताल में हुए खुलासे से अधिकारी तक चौक गए 3500 की वेतन से 15 साल पहले नौकरी शुरू करने वाले इस संविदा सहायक शिक्षक के 27 कॉलेज सहित कई बेनामी संपत्तियां और करोड़ों रुपए की नगदी मिली है बताया जाता है कि यह संविदा शिक्षक मूल्य तय राजस्थान का रहने वाला है और अगले साल राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव में वह विधायक का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा था।

इसी तरह ईओडब्लयू ने पंचायत सहायक के सतना मे भी छापा डाला जहां लाखों की नगदी और बेनामी संपत्ति के कागजात मिले हैं जिनकी जांच पड़ताल की जा रही है।

ग्वालियर में साल 2006 में 3500 रुपए महीने में संविदा शिक्षक की नौकरी करने वाला प्रशांत सिंह परमार महज 15 साल में 27 कॉलेजों का मालिक बन गया. EOW ने शनिवार को प्रशांत के एक दर्जन से ज्यादा ठिकानों पर छापा मार कार्रवाई की, तो चौंकाने वाले खुलासे हुए. मूलतः राजस्थान के रहने वाले प्रशांत ने साल 2006 में संविदा शिक्षक के रूप में नौकरी शुरू की थी।

EOW की जांच में प्रशांत के पास 27 कॉलेज, 4 दफ्तर, 2 मकान, जमीन, बैंक एकाउंट और लॉकर्स के दस्तावेज मिले हैं।

विदित है ग्वालियर में EOW को उस वक्त बड़ी सफलता मिली, जब उसने संविदा शिक्षक प्रशांत परमार पर रेड की आय से अधिक संपत्ति की एक गोपनीय शिकायत की जांच के बाद EOW ने प्रशांत के सत्यम टावर स्तिथ घर के साथ-साथ कई ठिकानों पर रेड की

इस रेड में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज EOW के हाथ लगे हैं. 2006 से सहायक शिक्षक की नौकरी कर रहा प्रशान्त परमार आज 24 D.ed, 3 B.ed कॉलेज, और 3 नर्सिंग कॉलेज सहित 27 कॉलेजों का मालिक है ।

ग्वालियर में प्रशांत के 2 मकान और चार दफ्तर होने की जानकारी के साथ जमींन, बैंक एकाउंट्स और लॉकर भी हैं।

राजस्थान का है शिक्षक

प्रशांत मूलतः राजस्थान के बाड़ी का रहने वाला है। उसका यह नेटवर्क झारखंड तक फैला होना पाया गया है. इस कार्यवाही के बीच EOW को प्रशांत के ठिकानों से कई सरकारी दफ्तरों और अधिकारियों की स्टैम्प सील मिली हैं।

ऐसे में सम्भवना है कि आरोपी सहायक शिक्षक प्रशांत परमार उन फर्जी स्टाम्प सील के जरिये यह काला खेल संचालित कर रहा होगा।

राजस्थान में विधानसभा चुनाव लड़ने की कर रहा था तैयारी

फिलहाल EOW की कार्यवाही जारी है. अधिकारियों के अनुसार पूरी जांच के बाद 10 करोड़ से अधिक की सम्पत्ति का खुलासा हो सकता है।

जांच के दौरान ये भी जानकारी मिली है कि प्रशांत अगले साल राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा था, जिसके लिए पिछले दिनों उसने राजस्थान के बाड़ी इलाके में कई आयोजन भी किए थे ।।

शिक्षक की संपत्ति

कॉलेजों की चैन व मैरिज गार्डन परमार के तीन बीएड कॉलेज, एक नर्सिंग कॉलेज तथा अन्य संस्थान भी हैं। कोटेश्वर में ब्राइट पब्लिक हायर सेकंडेरी स्कूल है। नूराबाद में भी एक कॉलेज के दस्तावेज मिले हैं। परमार के यहां प्रखर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, प्रशी नर्सिंग कॉलेज एंड हॉस्पिटल, ब्राइट नर्सिंग कॉलेज और परमार इंस्टीट्यूट ऑफ परोग्रेससीयोनल नाम के संस्थानों का रिकॉर्ड अभी तक की कार्रवाई में मिल चुका है। उसकी कॉलेजों की चैन बताई जाती है जिसके रिकॉर्ड खंगाले जा रहे हैं। यही नहीं सहायक शिक्षक के कोटेश्वर इलाके में दो मैरिज गार्डन परमार पैलेस मैरिज गार्डन और निर्मल वाटिका भी मिले हैं। कई प्रापर्टी उसने अपनी पत्नी, बच्चों के नाम से खरीद रखी हैं। घर से बड़ी मात्रा में आभूषण के अलावा लाखों की नकद राशि भी मिली है।

 

सतना में पंचायत सचिव भी करोड़पति

सतना जिले के मैहर तहसील अंतर्गत महेदर ग्राम पंचायत सचिव रामानुज त्रिपाठी के घुनवारा गांव में स्थित घर में ईओडब्ल्यू की टीम ने छापा मारा। इसमें ईओडब्ल्यू को करोड़ों की बेनामी संपत्ति के दस्तावेजों के साथ लाखों रुपए की नकदीृ मिली है। घर से चार लाख रूपये से अधिक की नकद राशि के अलावा पांच लाख के सोने और चांदी के जेवरात मिेल हैं। एक चार पहिया वाहन व तीन टू-व्हीलर सहित जमीनों के कागजात, बीमा पॉलिसियां व कई बैंक खातों का रिकॉर्ड ईओडब्ल्यू को मिल चुका है।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम