पटाखों पर बैन, हिंदुओं की आस्था का अपमान : बजरंग दल

आगरा। वायु प्रदूषण को लेकर राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने पटाखों की बिक्री व उपयोग करने पर रोक लगायी है। इसके विरोध को लेकर अब व्यापारियों के साथ-साथ हिंदूवादी संगठन जमकर विरोध कर रहे हैं।
 
कलेक्ट्रेट पर बुधवार को दोपहर बजरंग दल के नेतृत्व में दर्जनों पटाखा व्यापारी पहुंचे। उन्होंने अर्धनग्न होकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। जिलाधिकारी की अनुपस्थिति में एडीएम सिटी प्रभाकांत अवस्थी को पटाखों पर बंदी हटाने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा।
 
बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज कुमार ने कहा कि प्रशासन द्वारा दीपावली से महज चार दिन पहले पटाखों के चलाने, खरीदने तथा बेचने पर पूर्णतया बैन लगा दिया है, जो हिंदुओं की आस्थाओं का अपमान करना है। इस फैसले से पूरे हिंदू समाज में रोष का माहौल है। वायु प्रदूषण में दिवाली के पटाखों का योगदान केवल एक फ़ीसदी है, जो कि साल में एक दिन होता है, लेकिन प्रशासन ने केवल एक धर्म विशेष को निशाना बनाकर पटाखों पर बैन लगाया है। 
 
सदस्य कुशल जैन का कहना था कि दिवाली हिंदुओं का एक प्रमुख त्यौहार है। राम मंदिर निर्माण के फैसले के बाद यह पहली दिवाली है, जिसे हिंदू धूमधाम से मनाना चाहते हैं, परंतु प्रशासन ने अंतिम वक्त पर यह फैसला लेकर हिंदुओं के अरमानों पर पानी फेर दिया है। 
 
पटाखा व्यापारी प्रदीप अग्रवाल का कहना है कि अगर ऐसा ही करना था तो आगरा प्रशासन ने लाइसेंस क्यों दिए, सभी व्यापारी अपनी जमा पूंजी से पटाखे खरीद चुके हैं। अब हम उनका क्या करें। जिनसे खरीदे थे वह लौटाने के लिए राजी नहीं है और बेचने पर प्रशासन ने बैन लगा दिया है। सरकार और प्रशासन को व्यापारियों को ध्यान में रखते हुए। इस पर कोई फैसला लेना चाहिए। इस दौरान लकी वर्मा, प्रहलाद चक, सागर वर्मा, रवि कश्यप आदि मौजूद रहे।