मोदी सरकार के सबसे युवा मंत्री बनते ही 24 घंटे में ही आए विवाद में , कौन

कोलकाता / केंद्रीय मंत्री के तौर पर शपथ लेने के लेते ही कूचबिहार से भाजपा सांसद निशिथ प्रमाणिक विवादों में घिर गए हैं। उनकी शैक्षणिक योग्यता को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। कूचबिहार के एक तृणमूल नेता पार्थप्रतिम रॉय ने सोशल मीडिया के जरिये उनकी शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठाया है। उनका सवाल है …

मोदी सरकार के सबसे युवा मंत्री बनते ही 24 घंटे में ही आए विवाद में , कौन Read More »

July 8, 2021 4:59 pm

कोलकाता / केंद्रीय मंत्री के तौर पर शपथ लेने के लेते ही कूचबिहार से भाजपा सांसद निशिथ प्रमाणिक विवादों में घिर गए हैं। उनकी शैक्षणिक योग्यता को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं।

कूचबिहार के एक तृणमूल नेता पार्थप्रतिम रॉय ने सोशल मीडिया के जरिये उनकी शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठाया है। उनका सवाल है कि निशीथ प्रमाणिक ने ग्रैजुएशन किया है या सिर्फ सेकेंडरी पास हैं।

उनके दावे के अनुसार, “सांसदों की वेबसाइट में सांसद की शैक्षणिक योग्यता बीसीए (बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन) दर्शाती है, लेकिन चुनाव में उम्मीदवाली को लेकर जो हलफनामा उन्होंने दाखिल किया था उसमें उनकी शैक्षणिक योग्यता माध्यमिक बतायाी गयी है।

 

विदित है की बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल की सरकार के पहले कैबिनेट विस्तार में बंगाल की चार सांसदों ने राज्य मंत्री के तौर पर शपथ ली थी जिसमें कूचबिहार के सांसद निशीथ प्रमाणिक भी शामिल थे । 35 वर्षीय निशीथ प्रमाणिक मोदी मंत्रिमंडल के सबसे युवा मंत्री हैं।

निशिथ प्रमाणिक ने दिनहाटा से विधानसभा चुनाव में जीत भी हासिल की थी, लेकिन पार्टी के निर्देश पर विधायक के रूप में शपथ नहीं ली। इसके अलावा, भाजपा ने लोकसभा और विधानसभा चुनावों में उनके क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन किया है।

तृणमूल नेता पार्थप्रतिम राय के अनुसार भारत सरकार की वेबसाइट india.gov.in के ‘इंडियन पार्लियामेंट’ सेक्शन में निशीथ प्रमाणिक को बीसीए पास का बताया गया है।

उसमें यह भी उल्लेख किया गया है कि उन्होंने वह डिग्री बालाकुंडा जूनियर बेसिक स्कूल से प्राप्त की थी, लेकिन 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान निशीथ ने जो हलफनामा पेश किया, उसमें कहा गया है कि उनकी उच्चतम शैक्षणिक योग्यता सेकेंडरी है।

वह लाल बहादुर शास्त्री विद्यापीठ के छात्र थे और तृणमूल ने इन दोनों तथ्यों को सार्वजनिक कर सवाल उठाया है।

Prev Post

कोरोना पॉजिटिव रोगी फिर बढ़ने लगे

Next Post

टोंक के सोनवा गांव में महिलाएं चढ़ी पानी की टंकी पर चारागाह भूमि से अतिक्रमण हटाने का किया विरोध

Related Post

Latest News

पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi

Trending News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 

Top News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन.. 
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi
राजस्थान में PFI पर शिकंजा कसने के कलेक्टर व एस पी को दिए अधिकार, पदाधिकारी भूमिगत
गहलोत नही लडेंगे चुनाव, सिंह कल भरेंगे नामांकन,राजस्थान पर फैसला आज