प्लेबैक सिंगर अलका याग्निक को सुनाई देना हुआ बंद, फैंस से कहा तेज म्यूजिक और हेडफोन से रहे दूर

Dr. CHETAN THATHERA
3 Min Read

मुंबई । बॉलीवुड की मशहूर प्लेबैक सिंगर अलका याग्निक को न्यूरो रोग के कारण बंद हो गया है यह उनके लिए जहां आश्चर्यजनक बात है वही उनके शुभचिंतकों के लिए भी दुखद खबर है अलका याग्निक नहीं उन्हें सुनाई देना बंद होने की पुष्टि अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर की है और इसके साथ ही उन्होंने अपने शुभचिंतकों से तेज स्पीकर और हेड्स फोन से दूर रहने की अपील की है।

सन 1980 में रिलीज हुई फिल्म पायल की झंकार से बॉलीवुड में प्लेबैक सिंगर डेब्यू करने वाली प्लेबैक सिंगर अलका याग्निक बंद कर बंद कर इंस्टाग्राम अकाउंट पर 17 जून को एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि मेरे सभी शुभचिंतकों, दोस्तों और फॉलोअर्स के लिए कुछ हफ्ते पहले में एक फ्लाइट से होती तो मुझे महसूस हुआ कि मुझे कुछ भी सुनाई नहीं दे रहा है इस घटना के कहानी अब तो बात थोड़ी हिम्मत जताकर मैं अब अपने दोस्तों और शुभचिंतकों को इस बारे में बताने की हिम्मत की और बता रही हूं कि जो मुझे लगातार पूछने की मैं कहां गायब हो गई हूं क्योंकि मैं पिछले लंबे समय से इन एक्टिव हूं ।

अलका याग्निक में आगे लिखा मेरे डॉक्टर ने एक रेयर सेंसरी नर्व हियरिंग लॉस डायग्नोज किया है जो मुझे एक वायरस अटैक की वजह से हुआ है और अचानक से हुई इस घटना ने मुझे आश्चर्यचकित(शाॅक) कर दिया मैं स्वयं भी स्वीकार करने की कोशिश कर रही हूं और चाहती हूं कि इस बीच आप सभी मुझे अपनी प्रार्थनाओं और दुआओं में याद रखें अपनी इस पोस्ट के अंत में अलका याग्निक ने लोगों को लाउड म्यूजिक ना सुनने और हेडफोंस का कम इस्तेमाल करने की सलाह दी है।

उन्होंने यह भी लिखा किसी दिन में अपनी प्रोफेशनल जिंदगी से स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान पर बात जरूर करूंगी आप सबके प्यार और सहयोग से मैं फिर से अपना जीवन पर ट्रिपल लाने की उम्मीद करती हूं और जल्दी ही फिर आपके सामने आने की कामना करती हूं इस नाजुक ऋण पर आपका सपोर्ट और समझा मेरे लिए बहुत मायने रखती है।

अलका याग्निक की इस पोस्ट के बाद प्लेबैक सिंगर सोनू निगम सिंगर इला अरुण और पूनम ढिल्लों ने भी उनके जल्दी और शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है विदित है कि अलका याग्निक(58) ने अब तक करीब 25 से अधिक भाषा में 21000 से अधिक गाने रिकॉर्ड किए हैं और दो राष्ट्रीय अवार्ड और साथ फिल्म फेयर अवार्ड अपने नाम किए हैं

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम