किसान आंदोलन – किसान हुए हिंसक पुलिसकर्मियों पर ट्रैक्टर चढाने का प्रयास, पत्रकारों पर लहराई तलवारें कैमरे छीनने की कोशिश

Dr. CHETAN THATHERA
5 Min Read

नई दिल्ली/ कानूनों को वापस लेने के विरोध में किसानों का चल रहा आंदोलन आज उस समय और उग्र हो गया जब किसानों ने ट्रैक्टर की रैली दिल्ली में प्रवेश करने के साथ ही पुलिसकर्मियों पर ट्रैक्टर दौड़ाकर उन्हें कुचलने का प्रयास किया और पुलिसकर्मियों ने भाग कर इधर-उधर होकर अपनी जान बचाई वहीं दूसरी ओर मीडिया कर्मियों पर भी किसान उग्र होते हुए उन्हें मारने की नियत से तलवारें तक लहरा दी तथा कैमरे छीनने का प्रयास किया पुलिस ने बीच-बचाव करके सरंक्षण देकर पत्रकारों को बचाया इन घटनाओं से लगता है कि अब किसान उग्र और हिंसक होता जा रहा है और ऐसी संभावनाएं जताई जा रही है कि यही शिकायत चलती रही तो शाम तक कोई बड़ी घटनाएं होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता । वहीं इसी बीच लाल किले पर जा सवेरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तिरंगा फहराया था वहीं पर किसानों ने पहुंचकर झंडा फहराया है

केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ दो महीने से दिल्ली के तीन बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को गणतंत्र दिवस की परेड सम्पन्न हो जाने के बाद सीमित संख्या में ट्रैक्टर रैली निकालने की इजाजत दी गई थी। इसके लिए किसान नेताओं ने बाकायदा लिखित आश्वासन दिया था और दिल्ली के आउटर रिंग रोड के बाहर से एक रूट तय किया गया था।

एक ट्रैक्टर पर केवल ड्राइवर सहित 5 लोगों को बैठने की इजाजत थी। रैली को दिल्ली में प्रवेश नहीं करना था। पर मंगलवार की सुबह तय सीमा से पहले ही सारे नियम कानून और वादों को धता बताते हुए दिल्ली की सीमा में प्रवेश करने लगे। इसके चलते गाजीपुर सीमा, सिंधु बार्डर और टिकरी बार्डर पर आंदोलनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच काफी संघर्ष हुआ। दिल्ली पुलिस और सुरक्षाकर्मियों ने आसू गैस और लाठीचार्ज से रोकने की कोशिश की पर उग्र हो गए आंदोलनकारियों ने सारे बैरिकेट तोड़ दिए और दिल्ली के सबसे पहुंच चौराहे आईटीओ तक पहुंच गए। उनका इरादा वहां इंडिया गेट तक जाना था। पर काफी झड़प के बाद आखिरकार सुरक्षा बल उन्हें लालकिले की तरफ मोड़ने में कामयाब रहे। आंदोलकारियों का इरादा पहले से ही लालकिले पर अपना झंडा फहराना था। उसमें कामयाब रहे। इस सबके बावजूद सारे किसान नेता गायब हैं।

प्रदर्शनकारियों के हंगामे और बवाल के दौरान पुलिस के साथ झड़प के मामले पर किसान नेताओं ने सीधे-सीधे पल्ला झाड़ लिया है। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने हंगामे को लेकर कोई जानकारी नहीं होने की बात कही है। उनका कहना है कि यह बवाल उनके संगठन के किसानों ने नहीं किया है। उनका कहना है कि कुछ राजनीतिक दल के लोग आंदोलन में घुस आए थे, यह उनका काम है। हम उनकी पहचान कर रहे हैं।

वहीं, योगेंद्र यादव ने भी कहा है कि सिंधु बॉर्डर पर उऩके संगठऩ के लोग हंगामा नहीं कर रहे थे। उऩका संगठन शांतिपूर्वक प्रदर्शन का पक्षधर है।

योगेंद्र ने हंगामा करने वाले किसानों से पुलिस द्वारा तय रूट पर ही रैली निकालने की बात कही है। वहीं, लाल किले पर प्रदर्शन को लेकर उन्होंने कहा कि यह निस्संदेह निंदनीय है और शर्मिंदगी का विषय है। किसान नेताओं और आंदोलन में शामिल लोगों से अपील है कि वो पुलिस के दिए रूट को ही मानें।

 

भारतीय किसान यूनियन (जालंधर) के अध्यक्ष अमरीक सिंह ने दिल्ली में हुए हंगामे को लेकर किसानों से अपील की है कि वे निर्धारित रूट पर ही जाएं। उऩ्होंने कहा, ‘मैं हाथ जोड़ कर निवेदन करता हूं किसान भाई बवाल न करें। अनुशासन बनाए रखें। सरकार की तरफ से हमें रूट मिला है, उसी को फॉलो करें।’

पुलिस से साथ झड़प और हंगामे की घटना से खुद को अलग करते हुए अमरीक सिंह ने कहा कि कुछ शरारती तत्व आंदोलन को खराब करना चाहते हैं। लोगों को बरगलाया गया है, उनकी मंशा शांति भंग करने की है। उन्होंने कहा कि संयुक्त मोर्चा का स्पष्ट निर्देश था कि किसान तय रूट पर ही जाएंगे। जो लोग गलत रूट पर हैं उनसे जल्द वापसी की उम्मीद है।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम