120 सालों से बिक रहा जाॅनसन एंड जाॅनसन पाउडर अगले साल से होगा बंद , कैसंर का खतरा ?

Dr. CHETAN THATHERA
5 Min Read

नई दिल्ली/ दुनियाभर में 120 सालों से घर-घर की पहचान बन चुका जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर आने वाले नए साल से बाजार में बिक्री के लिए पूर्णतया बंद हो जाएगा इसका फैसला कंपनी ने लिया है इस निर्णय के पीछे पाउडर से कैंसर रोग बढ़ने का खतरा होने की संभावना सामने आई है । जबकि दूसरी और कंपनी ने स्वयं भी अपने पाउडर पर रिसर्च किया और दावा किया है कि उनका बेबी टेलकम पाउडर सुरक्षित है लेकिन

कंपनी अपने खिलाफ दुनिया भर में दर्ज हजारो मुकदमो से परेशान हो चुकी है और कंपनी द्वारा पिछले 5 साल में मुकदमों में एक मिलियन डॉलर करीब 8000 करोड रुपए खर्च कर दिए हैं ।

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी सन 1894 से जॉनसन बेबी पाउडर भारत सहित दुनिया भर में बेच रही है कंपनी के इस बेबी पाउडर का इस्तेमाल करने से कैंसर होने का आरोप लगाए जाने के बाद कंपनी के खिलाफ मई 2020 में दुनिया भर में हजारों मुकदमे दायर हो गए इस पाउडर के उपयोग से कैंसर होने के आरोप लगते रहे थे और कैंसर की आशंका वाली रिपोर्ट आने के बाद कंपनी के इस प्रोडक्ट की बिक्री में भारी गिरावट आई है और इसी को मद्देनजर रखते हुए जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी में अगले साल यानी 2023 तक पूरी दुनिया में अपने बेबी टेलकम पाउडर की बिक्री बंद करने का निर्णय लिया है । कंपनी का इस निर्णय के पीछे तर्क है कि वह कानूनी लड़ाई से परेशान हो चुकी है अमेरिका और कनाडा में तो 1 साल पहले ही इस कंपनी के बेबी टेलकम पाउडर की बिक्री बंद हो चुकी है कंपनी इस बेबी पाउडर के स्थान पर अब टेल्क बेस्ट पाउडर की जगह कार्न स्टार्च बेस्ट पाउडर बाजार में उतारेगी ।

क्या होता है टेल्क

टैल्क एक प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाला मिनरल है जो पृथ्वी से निकाला जाता है इसमें सिलिकॉन ऑक्सीजन मैग्नीशियम और हाइड्रोजन होता है । रासायनिक रूप से टैल्क एक हाइड्रोस मैग्नीशियम सिलिकेट है । जिसका केमिकल फार्मूला Mg3Si4O10(OH)2 है । कॉस्मेटिक और पर्सनल केयर प्रोडक्ट में टैल्क का इस्तेमाल होता है जो नमी को स्वप्न में काम आता है ।

कैंसर का खतरा क्यो

टैल्क को धरती से माइनिंग करके निकाला जाता है वहीं से ही अभ्रक भी एक प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले सिलीकेट मिनरल निकलता है और अभ्रक का एक अलग से क्रिस्टल स्ट्रक्चर होता है जो शरीर को नुकसान पहुंचाता है जब टैल्क खनिज पदार्थ की माइनिंग की जाती है तो उसमें अभ्रक के भी मिलने का खतरा रहता है ।

 

जाॅनसन एंड जाॅनसन कंपनी के वकील के अनुसार कंपनी ने पिछले साल 5 साल में केवल मुकदमों में एक बिलियन डॉलर अर्थात लगभग 7968 करोड से अधिक का भुगतान कर दिया है और कंपनी को सेटलमेंट के मामलों में सुलझाने के लिए अब तक करीब 3.5 बिलियन डॉलर अर्थात ₹28000 करोड के करीब का भुगतान करने के लिए विवश किया जा चुका है । सेंट लुइस में राज्य की कोर्ट के बाहर 2018 की जूरी के फैसले में कंपनी को उन 20 महिलाओं को जिन्होंने अपने ओवरी के कैंसर के लिए कंपनी के बेबी पाउडर को टारगेट किया था को 2.5 बिलियन डॉलर अर्थात करीब ₹20000 करोड़ का बतौर मुआवजा भुगतान करने पर विवश किया गया ।

कार्न स्टार्च बेस्ट पाउडर क्या

कार्न स्टार्च बेस्ट पाउडर मक्के से बनाया जाता है इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो स्किन केयर में इस्तेमाल होता है और स्क्रीन को मुलायम करने और मॉइश्चर सपने में मदद करता है इसमें विटामिन b1 B2 और मिनरल कैसे जिंक कैल्शियम और आयरन मिलते हैं ।

जाॅनसन एंड जाॅनसन का इतिहास 

जाॅनसन एंड जाॅनसन की स्थापना 1986 में रॉबर्ट वुड जॉनसन जेम्स एंड जॉनसन और एडवर्ड मीट जॉनसन तीनों भाइयों ने मिलकर इसकी नींव रखी थी इस कंपनी की शुरुआत टोटल 14 कर्मचारियों से हुई थी जिसमें 8 महिलाएं थी और आज कंपनी 60 से अधिक देशों में 275 से अधिक ऑपरेटिंग कंपनियां हैं दुनिया भर में इस कंपनी के करीब डेढ़ लाख कर्मचारी हैं और भारत की बात की जाए तो भारत में लगभग 6000 से अधिक लोग इस कंपनी में कार्य करते हैं और कंपनी पर वर्तमान में कैंसर की आशंका को लेकर दुनिया भर की करीब 38000 से अधिक महिलाओं ने मुकदमे कर रखे हैं और इसी कारण से कंपनी अपना जॉनसन एंड जॉनसन बेबी टेलकम पाउडर बंद कर रही है

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम